शनिवार , मई 21 2022 | 08:27:14 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भारत सरकार अबू सलेम को 2030 में छोड़ने को बाध्य, पुर्तगाल समझौता है कारण

भारत सरकार अबू सलेम को 2030 में छोड़ने को बाध्य, पुर्तगाल समझौता है कारण

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्रीय गृह सचिव ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि गैंगस्टर अबू सलेम को अधिकतम 25 साल की सजा का वादा पूरा किया जाएगा। यह वादा तत्कालीन डिप्टी पीएम लालकृष्ण आडवाणी ने सलेम के पुर्तगाल से प्रत्यर्पण के वक्त वहां की सरकार से किया था। सलेम 12 मार्च 1993 के मुंबई श्रृंखलाबद्ध बम धमाकों व हत्या की अन्य वारदातों का आरोपी है।

सलेम ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दायर कर कहा था कि भारत सरकार ने 2002 में पुर्तगाल सरकार से वादा किया था कि उसे न तो फांसी की सजा दी जाएगी, न ही किसी भी केस में 25 साल से अधिक कैद होगी। लंबी कानूनी लड़ाई के बाद सलेम को 11 नवंबर 2005 को पुर्तगाल से भारत लाया गया था। केंद्र सरकार ने कहा कि वह गैंगस्टर सलेम की रिहाई पर साल 2030 में विचार करेगी। सरकार उस वादे को पूरा करेगी जो सलेम के प्रत्यर्पण के वक्त तत्कालीन उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने किया था।

मामले की सुनवाई 21 अप्रैल को होगी। 12 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार के होम सेक्रेटरी से कहा था कि वह सलेम मामले में 18 अप्रैल तक हलफनामा दायर करे। सुप्रीम कोर्ट ने होम सेक्रेटरी से कहा था कि वह भारत सरकार द्वारा सलेम की सजा के मामले में दिए गए अंडरटेकिंग मामले में बताए कि क्या वह पूर्तगाल में दिए गए अंडरटेकिंग का पालन करने के लिए तैयार है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड में शामिल पेरारिवलन को किया रिहा

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी एजी पेरारिवलन की 31 साल से अधिक …