सोमवार , मई 16 2022 | 10:11:05 AM
Breaking News
Home / राज्य / महाराष्ट्र / महाराष्ट्र के पंचायत चुनाव में भाजपा बनी सबसे बड़ी पार्टी, शिवसेना नंबर तीन पर

महाराष्ट्र के पंचायत चुनाव में भाजपा बनी सबसे बड़ी पार्टी, शिवसेना नंबर तीन पर

Follow us on:

मुंबई (मा.स.स.). महाराष्ट्र के पंचायत चुनावों में भारतयी जनता पार्टी का जलाव कायम रहा। अधिक से अधिक सीटें जीतने के लिए भाजपा और राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी (NCP) के बीच कड़ी टक्कर रही। 106 नगर पंचायतों और 2 जिला परिषदों के लिए हुए चुनावों में भाजपा ने नगर पंचायतों में सबसे अधिक 416 सीटें जीतीं, इसके बाद एनसीपी ने 378 सीटें जीतीं। वहीं, एनसीपी ने 25 नगर पंचायतों में जीत हासिल की और उसके बाद भाजपा ने 24 पर जीत हासिल की। जबकि शिवसेना और कांग्रेस को क्रमशः तीसरे और चौथे स्थान पर धकेल दिया गया, तीन सत्तारूढ़ दल ने सामूहिक रूप से 60% से अधिक हासिल किया। चुनाव फिर से एक संकेत है कि भाजपा ने ज्यादा जमीन नहीं खोई है और एमवीए भागीदारों को एक साथ रहना होगा कि वे सत्ता चाहते हैं।

इस परिणाम से स्पष्ट हो गया है कि ओबीसी स्थानीय निकायों में राजनीतिक आरक्षण खोने के लिए MVA से नाराज नहीं हैं। राज्य चुनाव आयोग ने ओबीसी आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 106 नगर पंचायतों, दो जिला परिषदों, 15 पंचायत समितियों में दो चरणों में 1802 सीटों के लिए 21 दिसंबर और 18 जनवरी को मतदान कराया। अनुसूचित जाति के 15 दिसंबर को ओबीसी के लिए आरक्षित सीटों को डी-रिजर्व करने के फैसले के बाद सामान्य श्रेणी में डी-रिजर्व सीटों के लिए 93 नगर पंचायतों में 336 सीटों के लिए मतदान हुआ था। बीजेपी ने सबसे ज्यादा 416 सीटें जीतीं, उसके बाद एनसीपी-378, शिवसेना ने 301 सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस 297 सीटें जीतकर चौथे स्थान पर रही। इनमें से 24 पर भाजपा का शासन होगा जबकि शिवसेना और कांग्रेस ने क्रमश: 14 और 18 निकायों पर जीत हासिल की है।

राज्य के पूर्व मंत्री और बीजेपी का ओबीसी चेहरा चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा कि स्थानीय निकाय चुनावों में सत्ताधारी दलों द्वारा धन और बाहुबल के उपयोग के बावजूद भाजपा सबसे अधिक सीटें जीतीं हैं। हम अपने सहयोगियों की मदद से 30 से अधिक नगर पंचायतों को नियंत्रित करेंगे जिनमें मतदान हुआ था। मैं उन मतदाताओं का आभारी हूं जिन्होंने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में अपना विश्वास दोहराया है। एनसीपी की राज्य इकाई के प्रमुख जयंत पाटिल ने कहा कि एनसीपी नगर पंचायत चुनाव में सबसे ज्यादा निकाय जीतकर राजनीतिक ताकर बनकर उभरी है. उन्होंने कहा, “यह लोगों की सेवा करने और उनसे जुड़े मुद्दों को उठाने के हमारे निरंतर प्रयासों का परिणाम है।”

हालांकि तीनों पार्टियों को मिलाकर मिली सीटें बीजेपी से कहीं ज्यादा हैं। तीन सत्तारूढ़ दलों का मिलान भाजपा के 976 बनाम 416 है। इससे पता चलता है कि भाजपा अभी भी स्थानीय स्तर पर मजबूत है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सचिन वझे ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा से 45 लाख में करवाई थी मनसुख की हत्या

मुंबई (मा.स.स.). राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने मनसुख हिरेन हत्या मामले में पूर्व एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट …