सोमवार , मई 16 2022 | 10:57:56 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / तुर्की ने ब्रिटेन से की अमित शाह और भारतीय सेना प्रमुख की गिरफ्तारी की मांग

तुर्की ने ब्रिटेन से की अमित शाह और भारतीय सेना प्रमुख की गिरफ्तारी की मांग

Follow us on:

लंदन (मा.स.स.). कश्‍मीर में हर तरह से मुंह खा चुके पाकिस्‍तान ने अब भारत को फंसाने के लिए एक और चाल चली है। ब्रिटेन की राजधानी लंदन में तुर्की से जुड़ी एक लॉ फर्म Stoke White ने कश्‍मीर में कथित युद्धापराध के लिए भारतीय गृहमंत्री अमित शाह और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे की गिरफ्तारी की मांग की है। यही नहीं उसने कथित रूप से कश्‍मीर में रह रहे 2 हजार लोगों के बयान वाली रिपोर्ट को भी लंदन पुलिस को सौंपा है। उसका दावा है कि यह भारत की ओर से कश्‍मीर में किए जा रहे ‘युद्धापराध’ और ‘हिंसा’ का सबूत है।

उधर, भारतीय अधिकारियों का मानना है कि यह पाकिस्‍तान समर्थित प्रोपेगैंडा है। भारतीय सेना, मंत्रियों और वरिष्‍ठ अधिकारियों के खिलाफ की गई शिकायत को लंदन पुलिस के युद्धापराध की जांच करने वाली यूनिट को भी दिया गया है। लॉ फर्म ने लंदन पुलिस से कश्‍मीर में कथित भारतीय अपराधों की जांच करने की मांग की है। इस बीच एक भारतीय सूत्र ने कहा है कि यह लॉ फर्म तुर्की के अधिकारियों से जुड़ी हुई है और पाकिस्‍तान की ओर से काम कर रही है।

भारतीय अधिकारी ने कहा कि ब्रिटेन के किसी प्राधिकरण ने पुलिस शिकायत के बारे में भारतीय उच्‍चायोग से संपर्क नहीं किया है। अधिकारी ने कहा, ‘यह रिपोर्ट कोई जवाब देने के लिए मूर्खतापूर्ण है। इस रिपोर्ट में कथित नरसंहार और मानवाधिकर उल्‍लंघनों का जिक्र है लेकिन पाकिस्‍तान की ओर से बढ़ावा दिए जाने वाले सीमा पार आतंकवाद पर पूरी तरह से शांत है। जिस लॉ फर्म स्‍टोक वाइट इंटरनैशनल ने यह याचिका दाखिल की है, उसके इस्‍तांबुल और लंदन में कार्यालय हैं। यह लॉ फर्म इस्‍लामिक कानूनों में विशेषज्ञता रखती है। इसका तुर्की से बढ़‍िया संपर्क है।

इस लॉ फर्म का दावा है कि उसकी कानून के दायरे में रहते हुए अपनी एक जांच यूनिट है जो जनहित से जुड़े मामलों की जांच करती है। लॉ फर्म ने अपने एक बयान में कहा कि उसने अपनी रिपोर्ट ‘इंडिया वार क्राइम इन कश्‍मीर को मेट्रोपोल‍िटन पुलिस के युद्धापराध यूनिट को सौंपा है। हमने कश्‍मीर में अपराधों के लिए भारत के गृहमंत्री और सेना प्रमुख को अरेस्‍ट करने की मांग की है। पिछले साल इसी लॉ फर्म ने यूएई और सऊदी अरब के खिलाफ यमन में युद्धापराध करने के लिए याचिका दाखिल की थी। सऊदी अरब का तुर्की के साथ तनाव चल रहा है।

वहीं पाकिस्‍तान तुर्की के साथ लगातार अपनी दोस्‍ती को बढ़ा रहा है। एर्दोगान के नेतृत्‍व में तुर्की इस समय खुद को क्षेत्र में नया खलीफा बनाना चाहता है और इसमें पाकिस्‍तान की मदद ले रहा है। तुर्की के राष्‍ट्रपति एर्दोगान बार-बार कश्‍मीर पर पाकिस्‍तान की ओर से बोल रहे हैं, वहीं भारत भी साइप्रस के मुद्दे पर तुर्की का समर्थन नहीं करता है। इसी लॉ फर्म ने तुर्की के लोगों के लिए अंकारा समझौता कराया था जिससे हजारों की तादाद में तुर्की के नागरिक अब ब्रिटेन में रह रहे हैं। ब्रिटेन के पास जिनेवा कानून 1957 के तहत युद्धापराधों की जांच के लिए वैश्विक न्‍यायाधिकार है। इसी का तुर्की और पाकिस्‍तान फायदा उठाना चाहते हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

चीनी राष्ट्रपति मानसिक बीमारी सेरेब्रल एन्यूरिज्म से हैं पीड़ित

बीजिंग (मा.स.स.). चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग खतरनाक दिमागी बीमारी से ग्रस्त हैं। इस बीमारी …