गुरुवार , दिसम्बर 08 2022 | 02:57:37 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / भारतीय और इंडोनेशिया के विशेष बलों ने संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास गरुड़ शक्ति शुरू किया

भारतीय और इंडोनेशिया के विशेष बलों ने संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास गरुड़ शक्ति शुरू किया

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). सेना-से-सेना में आदान-प्रदान करने के कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में, भारतीय विशेष सैनिकों बलों की एक टुकड़ी वर्तमान में सांगा बुआना प्रशिक्षण क्षेत्र, करावांग, इंडोनेशिया में एक द्विपक्षीय संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास गरुड़ शक्ति में लगी हुई है। अभ्यास गरुड़ शक्ति इस बैनर के तहत द्विपक्षीय अभ्यासों की श्रृंखला का आठवां संस्करण है। 21 नवंबर 2022 को शुरू हुए इस अभ्यास का उद्देश्य दोनों सेनाओं के विशेष बलों के बीच समझ, सहयोग और अंतर परिचालन को बढ़ावा देना है।

संयुक्त अभ्यास के दायरे में विशेष बलों के कौशल को उन्नत करने के लिए उन्मुखीकरण, हथियार, उपकरण, नवाचार, रणनीति, तकनीकी और प्रक्रियाओं पर जानकारी साझा करना तथा किए गए विभिन्न अभियानों से सीखे गए सबक, जंगल इलाके में विशेष बल संचालन, आतंकवादी शिविरों पर हमले और सैन्य सहयोग को बढ़ावा देने के लिए दोनों देशों की जीवन शैली और संस्कृति में परिज्ञान प्राप्त करने के अलावा बुनियादी और अग्रिम विशेष बलों के कौशल को एकीकृत करने वाले अभ्यास का सत्यापन शामिल है। संयुक्त प्रशिक्षण में उच्च स्तर की शारीरिक फिटनेस, सामरिक अभ्यास, तकनीकों और प्रक्रियाओं पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा, जिसके लिए एक व्यापक 13-दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार किया गया है। यह अभ्यास 48 घंटे लंबे सत्यापन अभ्यास के साथ समाप्त होगा।

यह संयुक्त अभ्यास दोनों सेनाओं को एक-दूसरे को बेहतर तरीके से जानने और अंतरराष्ट्रीय वातावरण में आतंकवादी अभियानों से निपटने, क्षेत्रीय सुरक्षा संचालनों एवं शांति स्थापना कार्यों के बारे में अपने व्यापक अनुभवों को साझा करने में सहायता प्रदान करेगा। यह अभ्यास दोनों देशों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध सुनिश्चित करने और क्षेत्रीय सुरक्षा को सुनिश्चित करने की दिशा में अर्जित की गई महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

जैव विज्ञान और रासायनिक प्रौद्योगिकी – 2022 में उभरते रुझानों पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का हुआ आयोजन

जम्मू (मा.स.स.). केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री एवं पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), …