बुधवार , मई 18 2022 | 10:26:17 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / कलयुग के अंत तक अपना कर्ज उतारते रहेंगे तिरुपति बालाजी

कलयुग के अंत तक अपना कर्ज उतारते रहेंगे तिरुपति बालाजी

Follow us on:

त‌िरुपत‌ि बालाजी की प्राचीन कथा के अनुसार एक बार महर्ष‌ि भृगु बैकुंठ पधारे और आते ही शेष शैय्या पर योगन‌िद्रा में लेटे भगवान व‌िष्णु की छाती पर एक लात मारी। भगवान व‌िष्णु ने तुरंत भृगु के चरण पकड़ ल‌िए और पूछने लगे क‌ि ऋष‌िवर पैर में चोट तो नहीं लगी।भगवान व‌िष्णु का इतना कहना था क‌ि भृगु ऋष‌ि ने दोनों हाथ जोड़ ल‌िए और कहने लगे प्रभु आप ही सबसे सहनशील देवता हैं इसल‌िए यज्ञ भाग के प्रमुख अध‌िकारी आप ही हैं। लेक‌िन देवी लक्ष्मी को भृगु ऋष‌ि का यह व्यवहार पसंद नहीं आया और वह व‌िष्णु जी से नाराज हो गई। नाराजगी इस बात से थी क‌ि भगवानने भृगु ऋष‌ि को दंड क्यों नहीं द‌िया।नाराजगी में देवी लक्ष्मी बैकुंठ छोड़कर चली गई। भगवान व‌िष्णु ने देवी लक्ष्मी को ढूंढना शुरु क‌िया तो पता चला क‌ि देवी ने पृथ्वी पर पद्मावती नाम की कन्या के रुप में जन्म ल‌िया है।

 

भगवान व‌िष्णु ने भी तब अपना रुप बदला और पहुंच गए पद्मावती के पास। भगवान ने पद्मावती के सामने व‌िवाह का प्रस्ताव रखा ज‌िसे देवी ने स्वीकार कर ल‌िया।लेक‌िन प्रश्न सामने यह आया क‌ि व‌िवाह के ल‌िए धन कहां से आएगा।और इस तरह धनवान होते जा रहे हैं बाला जीव‌िष्णु जी ने समस्या का समाधान न‌िकालने के ल‌िएभगवान श‌िव और ब्रह्मा जी को साक्षी रखकर कुबेर सेकाफी धन कर्ज ल‌िया। इस कर्ज से भगवान व‌िष्णु के वेंकटेश रुप और देवी लक्ष्मी के अंश पद्मवती ने व‌िवाह क‌िया।कुबेर से कर्ज लेते समय भगवान ने वचन द‌िया था क‌िकल‌ियुग के अंत तक वह अपना सारा कर्ज चुका देंगे। कर्ज समाप्त होने तक वह सूद चुकाते रहेंगे। भगवान के कर्ज में डूबे होने की इस मान्यता के कारण बड़ी मात्रा में भक्त धन-दौलत भेंट करते हैं ताक‌ि भगवान कर्ज मुक्त हो जाएं।भक्तों से म‌िले दान की बदौलत आज यह मंद‌िर करीब 50 हजार करोड़ की संपत्त‌ि का माल‌िक बन चुका है।

 

नोट – उपरोक्त जानकारी प्रचलित धार्मिक मान्यताओं के आधार पर प्रस्तुत की गई है.

साभार : वेद गुप्ता

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

किसी को किस करना नहीं है यौन अपराध : बॉम्बे हाईकोर्ट

मुंबई (मा.स.स.). बॉम्बे हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न के मामले की सुनवाई के दौरान कहा कि …