शुक्रवार , मई 20 2022 | 06:37:56 AM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / हिंदुओं ने क्यों छोड़ी थी घाटी, इसकी जानकारी युवाओं को भी होनी चाहिए : आनंदीबेन पटेल

हिंदुओं ने क्यों छोड़ी थी घाटी, इसकी जानकारी युवाओं को भी होनी चाहिए : आनंदीबेन पटेल

Follow us on:

लखनऊ (मा.स.स.). आगरा के डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के 87वें दीक्षांत समारोह में मंगलवार को कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि इन दिनों ‘कश्मीर फाइल्स’ चर्चा में है। युवाओं को पता होना चाहिए कश्मीर की क्या स्थिति थी? हिंदुओं ने यूं ही अपना घर नहीं छोड़ा था। महिलाओं के साथ अभ्रद व्यवहार होता था। वर्ष 1991 में यह उच्च स्तर पर था।

कुलाधिपति ने कहा कि आतंकवादियों ने उसी समय देश को और नेताओं को चुनौती दी थी कि हिम्मत हो तो श्रीनगर के लाल चौक पर आइए और अपना ध्वज फहराइए। किसी की हिम्मत नहीं पड़ी लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी ने जवाब दिया कि हम लाल चौक पर आएंगे और प्यारा ध्वज फहराएंगे। जो करना है, कर लेना। सीने पर गोली खाएंगे पर कश्मीर को बचाएंगे और आतंकवादियों को भगाएंगे।

राज्यपाल ने बताया कि कन्याकुमारी से एकता यात्रा शुरू हुई और 43 दिन में कश्मीर के लाल चौक पर पहुंचीं। 26 जनवरी 1992 को लाल चौक पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया। देश भर से 150 लोग लाल चौक पहुंचे थे, इसमें गुजरात से महिला के तौर वह भी शामिल थीं। ऐसा काम युवा कर सकते हैं। आनंदीबेन पटेल ने कहा कि सेलुलर जेल और जलियावाला बाग में क्या हुआ, यह युवाओं को पढ़ने की जरूरत है। आज हम सुरक्षित हैं तो कैसे, यह पता करना चाहिए। कितने लोगों ने देश के लिए जान दी।

दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि परमार्थ निकेतन आश्रम उत्तराखंड के संस्थापक स्वामी चिदानंद सरस्वती ने छात्र-छात्राओं को पदक और उपाधियां मिलने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि सभी ने मेहनत की और मेडल मिला, यह बड़ी बात है पर अपने जीवन को मॉडल बनाओ। 80 वर्ष की उम्र में भी कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल की सक्रियता से सभी को प्रेरणा लेने की जरूरत है। स्वामी चिदानंद सरस्वती ने कहा कि यह एतिहासिक विश्वविद्यालय है, इसने देश को दो राष्ट्रपति, तीन प्रधानमंत्री के अलावा अजीत डोभाल जैसा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से दायित्व संभाला, विश्व भर में देश की साख बढ़ा दी।

स्वामी चिदानंद ने छात्र-छात्राओं को प्रेरित किया कि वह अपने जीवन को दीये की तरह बनाएं। दूसरों से जलें नहीं, दीये की तरह दूसरों के लिए जलें। एक होता है धन कमाना और एक है धर्म कमाना, दोनों की आवश्यकता है। धन कमाते हुए अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के भतीजे की सड़क हादसे में मौत

लखनऊ (मा.स.स.). उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के रहने वाले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री …