मंगलवार , मई 17 2022 | 11:01:10 AM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / भाजपा विरोधी दलों की स्तम्भ हैं ममता बनर्जी : अभिषेक मनु सिंघवी

भाजपा विरोधी दलों की स्तम्भ हैं ममता बनर्जी : अभिषेक मनु सिंघवी

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). कांग्रेस के नेताओं को भी क्या पार्टी पर भरोसा नहीं रहा? आज सोशल मीडिया पर यह सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने ऐंटी-बीजेपी मोर्चा की बात करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को आगे कर दिया। कुछ लोगों ने तो बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा की तस्वीरें शेयर करते हुए सिंघवी को घेरा तो कुछ लोगों ने ममता की तारीफ के नए मायने निकाले। दरअसल, सिंघवी पश्चिम बंगाल से राज्यसभा सांसद हैं। एक यूजर ने तंज कसते हुए कहा कि दो साल में राज्यसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। ऐसे में वह राज्यसभा सीट रीन्यू कराने की संभावना तलाश रहे हैं। आपको याद होगा 2018 में राज्यसभा के लिए कांग्रेस के उम्मीदवार अभिषेक मनु सिंघवी का ममता बनर्जी ने समर्थन किया था।

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को एक ट्वीट किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ विपक्षी दलों की एकजुटता समय की मांग है और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इसकी महत्वपूर्ण पिलर हैं। पार्टी प्रवक्ता और राज्यसभा सदस्य सिंघवी ने आगे लिखा, ‘गैर भाजपा विपक्ष समय की मांग है। ममता इसकी पिलर हैं। 2024 के लिए राज्यवार हर घटक को समन्वय के साथ एकजुट करना होगा ताकि मतों के विभाजन को रोका जा सके। भाजपा की सर्वश्रेष्ठ जीत भी, डाले गए कुल मतों के 39 प्रतिशत से आगे नहीं गई।’ उन्होंने यह भी कहा कि ममता और दूसरे सभी लोगों को, भाजपा विरोधी लोगों को एकजुट करने के लिए संयम के साथ पूरा जोर लगाना होगा। डॉ. विवेक लिखते हैं, ‘लगता है राहुल जी के नेतृत्व पर अब कांग्रेस जनों को विश्वास नहीं रहा। 2024 में मोदी जी को हराने का ख्वाब भी ममता के सहारे देख रहे हैं जिसने हाल ही में कई राज्यों में कई कांग्रेसियों को अपनी पार्टी में शामिल किया था।’

एक यूजर ने लिखा कि आपको ममता, आप, सपा सभी को समझना होगा जो आपका वोट शेयर हड़प रहे हैं। आपको अपनी पार्टी को मजबूत रखने के लिए इनसे फाइट करनी होगी नहीं तो जल्द ही कांग्रेस इतिहास बन जाएगी। सिंघवी ने यह बात ऐसे समय में की है जब हाल ही में ममता बनर्जी ने गैर-भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और विपक्षी दलों के नेताओं को पत्र लिखकर उनसे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होने की अपील की थी। तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख के तौर पर लिखे गए पत्र में बनर्जी ने भाजपा से मुकाबला करने की रणनीतियों पर चर्चा करने और एकजुट एवं सैद्धांतिक विपक्ष बनाने का संकल्प लेने के लिए एक बैठक करने की अपील की, ताकि ऐसी सरकार बनाने की तैयारी की जा सके, जिसका देश हकदार है।

एक तरफ कांग्रेस नेता सिंघवी ममता के नेतृत्व में विपक्षी एकजुटता की बात कर रहे हैं तो दूसरी तरफ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अधीर रंजन चौधरी ने ममता को घेरा है। उन्होंने ममता के इस बयान को लेकर आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बीरभूम हिंसा के असर को देखकर भयभीत हैं और वह इससे ध्यान भटकाने के लिए विपक्षी एकजुटता के बारे में बात कर रही हैं। लोकसभा में कांग्रेस के नेता ने यह भी कहा था कि हिंसा की इस घटना से प्रदेश की छवि धूमिल हुई है और देश भर में लोग पश्चिम बंगाल सरकार की निंदा कर रहे हैं।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

राजीव कुमार होंगे देश के नए मुख्य चुनाव आयुक्त

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजीव कुमार को मुख्य चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है। वे 15 …