सोमवार , मई 16 2022 | 11:50:36 AM
Breaking News
Home / राज्य / मध्यप्रदेश / फिल्म के वैचारिक पक्ष पर चिंतन नहीं होता : अभिजीत गोखले

फिल्म के वैचारिक पक्ष पर चिंतन नहीं होता : अभिजीत गोखले

Follow us on:

भोपाल (मा.स.स.). चतुर्थ चित्रभारती फ़िल्म महोत्सव, 25 से 27 मार्च दौरान भोपाल में संपन्न  हुआ। इस महोत्सव का उद्घाटन सिनेअभिनेता अक्षय कुमार, विवेक रंजन अग्निहोत्री, प्रो. के. टी. सुरेश किया। 25 मार्च को द्वितीय मास्टर क्लास आरम्भ होने से पहले संस्कार भारती के अखिल भारतीय संगठन मंत्री श्री अभिजीत दादा गोखले ने पोस्टर लाँच किया।

अभिजीत गोखले ने विषय का परिचय देते हुए कहा, ‘जब भी हम सिनेमा की बात करते हैं तो फ़िल्म पुरस्कार समारोह या फ़िल्म महोत्सव ध्यान में आते हैं, फ़िल्म के वैचारिक पक्ष पर चिंतन नहीं होता। ‘सिनेटॉकीज़’ के माध्यम से हम इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे। यह स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव वर्ष है इस लिए इस बार का विषय है- ‘स्वतंत्रता आंदोलन और भारतीय सिनेमा’। इस विषय पर 2 मिनट का टीजर लॉन्च किया गया।

सिनेटॉकीज – सिने सृष्टि भारतीय दृष्टि के तहत 13 और 14 मई 2022 को मुंबई विश्वविद्यालय, कलीना कैम्पस में यह संगोष्ठी होगी। स्वाधीनता के अमृत महोत्सव के अवसर पर संस्कार भारती, अकादमी ऑफ थिएटर आर्ट्‌स, मुंबई विश्वविद्यालय के सहयोग से द्विदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन कर रही है। छात्रों की सहभागिता अधिक हो इसलिए यह सूचना मीडिया के विद्यालय तक पहुंचाने का प्रयास है।

इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए sanskarbharti.org पर रेजिस्ट्रेशन की सुविधा है। पंजीकरण आवश्यक है। पोस्टर तथा पम्फलेट पर बने QR कोड से भी आप रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। मंच पर विवेक रंजन अग्निहोत्री, अनुपम भटनागर, अरुण शेखर ने इस प्रक्रिया को पूरा किया। सभी प्रांतों से आये प्रतिनिधियों को पोस्टर और पैम्फलेट दिए गए।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

देशद्रोह के आरोप से छूटी सांसद नवनीत राणा, बीमारी अभी भी दे रही है दर्द

मुंबई (मा.स.स.). अभिव्यक्ति के अधिकार के आधार इस तरह के अपमानजनक और आपत्तिजनक शब्दों का …