शनिवार , मई 21 2022 | 09:15:43 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / मिस्र भारत से अभी लेगा और गेहूं, रूस-यूक्रेन युद्ध का असर

मिस्र भारत से अभी लेगा और गेहूं, रूस-यूक्रेन युद्ध का असर

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). यूक्रेन में जारी युद्ध के बीच दुनिया के कई देशों पर असर पर रहा है। इसी कड़ी में मिस्र भारत से गेहूं निर्यात करने के लिए बातचीत कर रहा है और रिपोर्ट्स के मुताबिक यह बातचीत अंतिम चरण में है। हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में मिस्र के आपूर्ति और आंतरिक व्यापार मंत्री अली अल-मोसेली ने कहा था कि उनका देश गेहूं आयात करने के लिए भारत, अर्जेंटीना अमेरिका और फ्रांस जैसे देशों के साथ बातचीत कर रहा है।

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट मुताबिक भारतीय आपूर्तिकर्ताओं को अभी भी मिस्र अनाज खरीदार से आयात मूल के रूप में मान्यता प्राप्त करनी होगी, जिसे जनरल अथॉरिटी फॉर सप्लाई कमोडिटीज (GASC) के रूप में जाना जाता है। भारतीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों बताते हैं कि 31 जनवरी को समाप्त हुए 10 महीनों में भारत से गेहूं का निर्यात चार गुना से अधिक बढ़ गया, जो कि 1.38 मिलियन टन से बढ़कर 6 मिलियन टन हो गया है।

काहिरा में संस्कृति और विज्ञान शहर में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर अली अल-इदरीसी ने अल-मॉनिटर से बातचीत में कहा है कि भारत मिस्र के लिए गेहूं आयात करने का एक महत्वपूर्ण विकल्प है। मिस्र के भारत के साथ अच्छे व्यापारिक संबंध हैं, और हम पहले भी चावल आयात करने के लिए भारत के साथ काम कर चुके हैं। शिपिंग की कम लागत सहित, रसद आदि को देखते हुए भारत से गेहूं लाने का विकल्प सबसे सही है।

इदरीसी ने कहा है कि हालांकि भारत संकट के वक्त में सबसे अच्छा स्रोत है लेकिन हम इस बात से इनकार नहीं कर सकते हैं कि रूस और यूक्रेन मिस्र के लिए सबसे बेहतर विकल्प हैं। लेकिन मौजूदा वक्त में हम वैश्विक संकट का सामना कर रहे हैं और हमें अगले साल के लिए अपनी आवश्यकताओं के आधार पर समाधान करने की आवश्यकता है।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड में शामिल पेरारिवलन को किया रिहा

नई दिल्ली (मा.स.स.). राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी एजी पेरारिवलन की 31 साल से अधिक …