शुक्रवार , जनवरी 21 2022 | 02:14:51 AM
Breaking News
Home / अन्य राज्य : सैंकलिम से चुनाव लड़ेंगे मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, मनोहर पर्रिकर के बेटे को नहीं मिला मौका

अन्य राज्य : सैंकलिम से चुनाव लड़ेंगे मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत, मनोहर पर्रिकर के बेटे को नहीं मिला मौका

पणजी (मा.स.स.). गोवा की 40 विधानसभा सीटों का मुकाबला कठिन होते जा रहा है। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बाद अब भारतीय जनता पार्टी ने भी अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। इसमें 34 नाम हैं। मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत सैंकलिम, जबकि उप-मुख्यमंत्री मनोहर अजांकर मारगांव विधानसभा सीट से प्रत्याशी होंगे। भाजपा ने जिन 34 उम्मीदवारों का नाम घोषित किया है, उनमें से नौ अल्पसंख्यक समुदाय के हैं। अब केवल छह उम्मीदवारों पर ही फैसला होना बाकी है। 14 फरवरी को यहां चुनाव होने हैं।

भाजपा ने पणजी सीट से मौजूदा विधायक आटांसियो मोंसेराते को ही टिकट दिया है। इस सीट से पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर अपनी दावेदारी कर रहे थे। उन्होंने पार्टी को चेतावनी भी दी थी कि अगर भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया गया तो वह चुप नहीं बैठेंगे। अब प्रत्याशियों की सूची के एलान के बाद उत्पल पर्रिकर क्या करते हैं, इसपर सबकी नजर टिकी हुई है। उधर, टिकट का एलान करते हुए महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘उत्पल पर्रिकर को दो सीटों का ऑप्शन दिया गया था। उनमें से एक को उन्होंने ठुकरा दिया। दूसरे विकल्प पर विचार करने के लिए कहा है। वह भाजपा परिवार का हिस्सा हैं। उन्हें हम मनाने की कोशिश कर रहे हैं।’ बताया जाता है कि उत्पल को भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भी शामिल होने का ऑफर दिया गया है।

देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘गोवा में भाजपा ही एक बार फिर से जीत हासिल करेगी। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस की जमीन गोवा में शून्य है। तृणमूल हिंदू विरोधी और सांप्रदायिक है। उन्होंने आम आदमी पार्टी को झूठों की पार्टी बताया। कहा, गोवा की जनता इन्हें नकार देगी।

अरविंद केजरीवाल ने अमित पालेकर को बनाया गोवा में आप का मुख्यमंत्री दावेदार

पणजी (मा.स.स.). गोवा विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने सीएम पद के उम्मीदवार की घोषणा कर दी है। अमित पालेकर गोवा में पार्टी के मुख्यमंत्री पद का चेहरा होंगे। अमित पालेकर भंडारी समाज से आते हैं।उनके नाम का एलान करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वह ऐसे शख्स को सीएम का चेहरा बना रहे हैं जिसके दिल में गोवा बसता है। जो गोवा के सब लोगों को साथ लेकर चलेगा। चाहे वो किसी भी धर्म-जाति के हों। जो पढ़ा लिखा होगा। जिसे हम गोवा के मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाएंगे वो ईमानदार होगा। अभी तक गोवा के भंडारी समाज के मन में अन्याय की भावना है। पिछले साठ साल में इस समाज से केवल एक बार ढाई साल के लिए सीएम बना था।

गौरतलब है कि आप ने इसी महीने की आठ तारीख को गोवा विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की थी। इसमें 10 प्रत्याशियों के नाम थे, जिनमें भाजपा के पूर्व मंत्री महादेव नाइक, अलीना सालडांगा और वकील से नेता बने अमित पालेकर जैसे नाम शामिल रहे। गोवा विधानसभा चुनाव में जीत के लिए आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मुफ्त बिजली-पानी देने के साथ 13 सूत्री एजेंडा तैयार किया है। इस एजेंडे में राज्य में शिक्षा, स्वास्थ्य, उद्योग एवं व्यापार, रोजगार, खनन और बुनियादी ढांचे के विकास को भी शामिल किया गया। अपने चुनावी एजेंडे में आप ने राज्य के लोगों को 3000 रुपये प्रतिमाह बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है। इसके अलावा पार्टी ने जमीन का अधिकार देने का भी वादा किया है।

अरविंद केजरीवाल ने पी. चिदंबरम को दी रोना बंद करने की नसीहत

पणजी (मा.स.स.). गोवा के विधानसभा चुनावों से पहले वहां भी काफी उठापटक देखने को मिल रही है। कांग्रेस के 17 में से 15 विधायक भाजपा में शामिल हो चुके हैं। इस बीच कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के एक ट्वीट पर आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने चुटकी ली है। दोनों नेता चुनावों को लेकर ट्विटर पर ही भिड़ गए हैं।

दरअसल, पी चिदंबरम ने गोवा विधानसभा चुनावों को लेकर एक ट्वीट किया। उन्होने लिखा कि मेरा आकलन है कि आम आदमी पार्टी और टीएमसी गोवा में गैर-भाजपा वोट को केवल खंडित करेगा। अरविंद केजरीवाल द्वारा इसकी पुष्टि की गई है। उन्होंने आगे लिखा गोवा में मुकाबला कांग्रेस और भाजपा के बीच है।

इस ट्वीट के कुछ ही देर बाद आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल ने पी चिदंबरम के ट्वीट के जवाब में लिखा – सर, रोना बंद कीजिए- ‘हाय रे, मर गए रे, हमारे वोट काट दिए रे’…गोवा सिर्फ वहां वोट करेगा जहां उसे उम्मीद दिखेगी। केजरीवाल आगे लिखते हैं कि भाजपा के लिए कांग्रेस उम्मीद हो सकती है, लेकिन गोवा के लोगों के लिए नहीं । ऐसी पार्टी जिसके 17 में से 15 विधायक भाजपा में चले गए हों।

केजरीवाल ने कांग्रेस की गांरटी नाम से एक नोट भी लिखा है। उन्होने लिखा कांग्रेस का हर वोट सुरक्षित तरीके से भाजपा को डिलीवर कर दिया जाएगा। भाजपा को वोट देने के लिए कांग्रेस से संपर्क करें, वह सुरक्षित तरीके से डिलीवरी करा देंगे।

नरेंद्र मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का प्रमाण पत्र – अरविंद केजरीवाल

पणजी (मा.स.स.). दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) 1947 के बाद से देश की सबसे “ईमानदार” पार्टी है, यह दावा करते हुए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पार्टी को “ईमानदारी का प्रमाण पत्र” दिया है। केजरीवाल इन दिनों गोवा में पार्टी के लिए जोर-शोर पर प्रचार में व्यस्त हैं।

आगामी 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव के मद्देनजर गोवा में प्रवास पर चल रहे अरविंद केजरीवाल ने रविवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पीएम मोदी ने ‘आप’ को आजादी के बाद से भारत की सबसे ईमानदार पार्टी का प्रमाण पत्र दिया है। मोदी जी ने सीबीआई, पुलिस ने मुझ पर और मनीष सिसोदिया पर छापा मारा। 21 पार्टी विधायकों को गिरफ्तार किया गया, 400 फाइलों की जांच के लिए आयोग का गठन किया गया था। फिर भी कुछ नहीं मिला। उन्होंने कहा, “भ्रष्टाचार मुक्त शासन हमारे डीएनए में है।”

इसके अलावा 14 फरवरी को होने वाले गोवा विधानसभा चुनाव के लिए अरविंद केजरीवाल ने प्रदेश की जनता के समक्ष 13 सूत्री एजेंडा भी रखा। केजरीवाल ने कहा, “गोवा की जनता 14 फरवरी को होने वाले चुनावों का इंतजार कर रही है। लोगों के लिए आम आदमी पार्टी नई उम्मीद है। उनके पास पहले भाजपा/कांग्रेस के अलावा कोई विकल्प नहीं था, वे बदलाव चाहते हैं और निराश हैं।” आप के 13 सूत्री एजेंडे के तहत केजरीवाल ने कहा कि युवाओं को रोजगार दिया जाएगा और जिन्हें नहीं मिलेगा उन्हें 3,000 रुपये प्रति माह की सहायता मिलेगी।

केजरीवाल ने कहा कि बेहतर और मुफ्त स्वास्थ्य सेवा के लिए गोवा के हर गांव और जिले में मोहल्ला क्लीनिक और अस्पताल खोले जाएंगे। किसान समुदाय के साथ चर्चा के बाद खेती के मुद्दों को हल किया जाएगा। व्यापार प्रणाली को सुव्यवस्थित और सरल बनाया जाएगा। उन्होंने कहा, “हम 18 वर्ष से अधिक उम्र की प्रत्येक महिला को 1,000 रुपये प्रदान करेंगे। पर्यटन क्षेत्र को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार विकसित किया जाएगा। गोवा में 24×7 मुफ्त बिजली और पानी होगा। सड़कों में सुधार किया जाएगा और सभी सरकारी स्कूलों में मुफ्त शिक्षा दी जाएगी।” केजरीवाल ने यह भी कहा कि राज्य में खनन का बहुत बड़ा निहित स्वार्थ है। केजरीवाल ने कहा कि अगर आप सत्ता में आती है तो वह छह महीने में लोगों को जमीन का अधिकार देगी।