Breaking News
Home / Tag Archives: समाचार

Tag Archives: समाचार

कैसे कोई कंपनी छूने लगती हैं बुलंदियों को

– आर.के.सिन्हा निश्चित रूप से हम सबने देश की कॉरपोरेट संसार की प्रमुख कंपनियों जैसे रिलायंस, टाटा, बिड़ला, विप्रो, एचसीएल वगैरह के नाम सुने हैं। पर जरा बताइये कि हमसे कितने लोगों ने क्वैस कोर्प का नाम सुना है?  माफ कीजिए कि क्वैस कोर्प के नाम और काम से बहुत …

Read More »

क्यों बार-बार जलने लगा है बंगाल ?

– आर.के. सिन्हा प्रख्यात कार्टुनिस्ट सुधीर धर को एक बार पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी मिल गईं थी। कहने लगीं कि आजकल आप हमें अपनी कार्टूनों में जगह नहीं दे रहे। इसके विपरीत पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी की मॉर्फ्ड फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाली भाजपा यूथ विंग की कार्यकर्ता …

Read More »

कांग्रेस – सपा चाहती हैं टेनरी मालिकों को मिले मनमानी करने की छूट

कानपुर (मा.स.स.)। शहर में कुम्भ के समय टेनरियों को बंद करने का आदेश आया था। उस समय भी प्रशासन को शिकायत मिली थी कि बंदी के बाद भी टेनरियां गंगा को गंदा कर रही हैं। इसके बाद कुछ पर कार्रवाई भी हुई थी। लेकिन शायद यह कागजी थी, तभी तो …

Read More »

जाति व्यवस्था ईश्वरीय आज्ञा नहीं है वरन् समता ईश्वरीय आज्ञा है!

– डा0 जगदीश गांधी आज से 2500 वर्ष पूर्व निपट भौतिकता तथा भेदभाव बढ़ जाने के कारण मानव के मन में हिंसा का वेग काफी बढ़ गया था। इस कारण से मानव का जीवन दुःखी होता चला जा रहा था, तब परमात्मा ने मनुष्यों पर दया करके और उन्हें अहिंसक …

Read More »

हिंसक राजनीति में ध्वस्त होता लोकतंत्र

– ललित गर्ग सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव का समूचे देश में कमोबेश शांतिपूर्ण रहना जितना प्रशंसनीय है, उतना ही निंदनीय है पश्चिम बंगाल में उसका हिंसक, अराजक एवं अलोकतांत्रिक होना। चुनावों से लोकतांत्रिक प्रक्रिया की शुरूआत मानी जाती है, पर पश्चिम बंगाल में चुनाव लोकतंत्र का मखौल बन चुके हैं। …

Read More »

सूचना और संचार क्रान्ति का विश्व समाज को बेहतर बनाने में अहम योगदान है

– डा0 जगदीश गांधी संयुक्त राष्ट्र संघ का पहला विश्व सूचना सोसायटी दिवस 17 मई, 2006 को मनाया गया था। मार्च 2006 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा दुनिया भर के लोगों को एक-दूसरे से जोड़ने से मदद के लिए अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) की भूमिका को बढ़ाने के लिए 17 …

Read More »

खुशी के बहाने नहीं, अवसर खोजिए

–ललित गर्ग खुशी एवं मुस्कान जीवन की एक सार्थक दिशा है। हर मनुष्य चाहता है कि वह सदा मुस्कुराता रहे और मुस्कुराहट ही उसकी पहचान हो। क्योंकि एक खूबसूरत चेहरे से मुस्कुराता चेहरा अधिक मायने रखता है, लेकिन इसके लिए आंतरिक खुशी जरूरी है। जीवन में जितनी खुशी का महत्व …

Read More »

सरकारी नौकरियां (10-05-2019)

मातृभूमि समाचार सदैव से ही यह विश्वास करता है कि सब साथ मिलकर आगे बढ़ें. इसी क्रम में हम आपके लिए सरकारी नौकरियों से जुड़ी जानकारी लेकर आये हैं. इस समाचार के शीर्षक में दी गई तिथि इन नौकरियों को अपडेट करने की अंतिम तिथि है. हम समय-समय पर इस …

Read More »

बहुजनों को बार-बार छलने वाली बहनजी बंद कीजिए दिन में ख्वाब देखना

– आर. के. सिन्हा बहुजन समाजवादी पार्टी की एकमात्र नेत्री मायावती ने प्रधानमंत्री बनने के ख्वाब देखने भी शुरू कर दिए हैं। देखा जाए तो कोई दिन में सपने देखकर खुश होना चाहे तो इसमें कोई बुराई भी नहीं है। वैसे उन्हें ख्वाबों और हकीकत का अंतर तो मालूम ही …

Read More »

चिन्ताजनक है पूंजी का बढ़ता असन्तुलन

-ललित गर्ग भारत के अमीर और ज्यादा अमीर होते जा रहे हैं, गरीब और ज्यादा गरीब। इस बढ़ती असमानता से उपजी चिंताओं के बीच देश में अरब़पतियों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। भारत के लिये विडम्बनापूर्ण है कि यहां गरीब दो वक्त की रोटी और बच्चों की दवाओं …

Read More »