गुरुवार , अगस्त 11 2022 | 08:04:49 PM
Breaking News
Home / व्यापार / जुलाई 2022 में सकल जीएसटी राजस्व संकलन 1,48,995 करोड़ रुपये रहा

जुलाई 2022 में सकल जीएसटी राजस्व संकलन 1,48,995 करोड़ रुपये रहा

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). जुलाई 2022 में सकल जीएसटी राजस्व संकलन 1,48,995 करोड़ रुपये है, जिसमें जीएसटी 25,751 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 32,807 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 79,518 करोड़ रुपये है (इसमें आयातित माल पर 41,420 करोड़ रुपये सहित) और उपकर 10,920 करोड़ रुपये (आयातित माल पर 995 करोड़ रुपये सहित) है। यह जीएसटी लागू होने के बाद से अब तक का दूसरा सर्वाधिक राजस्व है।

सरकार ने आईजीएसटी से सीजीएसटी में 32,365 करोड़ रुपये और एसजीएसटी में 26,774 करोड़ रुपये समायोजित कर दिये हैं। जुलाई 2022 के मद्देनजर नियमित समायोजन के बाद केंद्र और राज्यों का कुल राजस्व सीजीएसटी के मद में 58,116 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के मद में 59,581 करोड़ रुपये है।

पिछले वर्ष इसी माह के 1,16,393 करोड़ के प्राप्त जीएसटी राजस्व की तुलना में इस बार का राजस्व 28 प्रतिशत अधिक है। पिछले वर्ष के इसी महिने में इन्हीं स्रोतों से प्राप्त राजस्व की तुलना में जुलाई 2022 के दौरान, माल के आयात से प्राप्त होने वाला राजस्व 48 प्रतिशत अधिक तथा स्वदेशी लेने से प्राप्त होने वाला राजस्व (सेवाओं के आयात सहित) 22 प्रतिशत अधिक है।

अब लगातार पांच महिनों से मासिक जीएसटी राजस्व 1.4 लाख करोड़ रुपये से अधिक दर्ज किया गया। इस तरह हर महिने उसमें सतत बढ़ोतरी होती रही। पिछले वर्ष के इसी समय की तुलना में जुलाई 2022 तक जीएसटी राजस्व की बढ़ोतरी 35 प्रतिशत अधिक रही, जिससे पता चलता है कि उसमें तेजी कायम थी। इससे साफ पता चलता है कि परिषद ने पूर्व में बेहतर कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के जो विभिन्न उपाय किये थे, यह उसी का परिणाम है। बेहतर तौर-तरीके के साथ आर्थिक बहाली का भी जीएसटी राजस्वों पर सकारात्मक प्रभाव पड़। जून 2022 के दौरान 7.45 करोड़ ई-वे बिल बनाये गये, जो मई 2022 की तुलना में थोड़ा सा अधिक हैं।

नीचे दी गई तालिका से वर्तमान वर्ष के दौरान मासिक सकल जीएसटी राजस्वों के रुझान का पता चलता है। तालिका में जुलाई 2021 की तुलना में जुलाई 2022 के दौरान हर राज्य द्वारा संकलित जीएसटी के राज्यवार आंकड़े दर्शाये गये हैं।

जुलाई 2022 क दौरान जीएसटी राजस्वों में राज्यवार वृद्धि[1]

राज्य जुलाई-21 जुलाई-22 वृद्धि
जम्मू और कश्मीर 432 431 0%
हिमाचल प्रदेश 667 746 12%
पंजाब 1,533 1,733 13%
चंडीगढ़ 169 176 4%
उत्तराखंड 1,106 1,390 26%
हरियाणा 5,330 6,791 27%
दिल्ली 3,815 4,327 13%
राजस्थान 3,129 3,671 17%
उत्तर प्रदेश 6,011 7,074 18%
बिहार 1,281 1,264 -1%
सिक्किम 197 249 26%
अरुणाचल प्रदेश 55 65 18%
नगालैंड 28 42 48%
मणिपुर 37 45 20%
मिजोरम 21 27 27%
त्रिपुरा 65 63 -3%
मेघालय 121 138 14%
असम 882 1,040 18%
पश्चिम बंगाल 3,463 4,441 28%
झारखंड 2,056 2,514 22%
ओडिशा 3,615 3,652 1%
छत्तीसगढ़ 2,432 2,695 11%
मध्य प्रदेश 2,657 2,966 12%
गुजरात 7,629 9,183 20%
दमन एवं दीव 0 0 -66%
दादरा एवं नगर हवेली 227 313 38%
महाराष्ट्र 18,899 22,129 17%
कर्नाटक 6,737 9,795 45%
गोवा 303 433 43%
लक्षद्वीप 1 2 69%
केरल 1,675 2,161 29%
तमिलनाडु 6,302 8,449 34%
पुदुच्चेरी 129 198 54%
अंडमान एवं नीकोबार द्वीप समूह 19 23 26%
तेलंगाना 3,610 4,547 26%
आंध्र प्रदेश 2,730 3,409 25%
लद्दाख 13 20 54%
अन्य क्षेत्र 141 216 54%
केंद्रीय न्यायसीमा 161 162 0%
कुल योग 87,678 1,06,580 22%

[1]माल के आयात पर लगने वाला जीएसटी शामिल नहीं है

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

लगातार मजबूत होते भारतीय बैंक

– प्रहलाद सबनानी किसी भी देश की अर्थव्यवस्था को तेज गति से चलायमान रखने में …