शुक्रवार , सितम्बर 30 2022 | 04:01:51 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / नमन मेरे भगवन् ….

नमन मेरे भगवन् ….

Follow us on:

– डॉ० घनश्याम बादल

लिखना चाहता हूं ‘शिक्षक’

‘शिखर’ लिख जाता है,

 खुद ब-खुद ।

‘आचार्य’ लिखने की चाहत,

और मनसपटल पर –

लिखा पाता हूं ‘आचरण’

उसमें से भी पढ़ पाता हूं’

सिर्फ ‘चरण’ ।

मेरी मिट्टी से,

चुन- चुन कर हर कंकर

निकालने की तुम्हारी

हर कोशिश को ,

मै कैसे भूल जाऊं ।

तुम्हारी हर स्मृति,

झुका जाती है ,

खुद ब – खुद

मेरा सर , ए मेरे ‘सर’ ।

श्रद्धा , सम्मान और

कृतज्ञता से

नमन ,नमन, नमन,

मेरे भगवन् ,

तुम जहां भी हो ,

नमन नमन नमन ।

रचनाकार रुड़की के प्रसिद्ध कवि हैं.

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://vyaparapp.in/store/Pustaknama/15

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

विज्ञान और तकनीकी विकास के एकीकरण के लिए “साइंस लीडर्स” की आवश्यकता है : डॉ. जितेंद्र सिंह

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी; राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पृथ्वी विज्ञान; प्रधानमंत्री कार्यालय, …