शनिवार , जुलाई 02 2022 | 10:12:16 AM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / उत्तर प्रदेश में 200 से ज्यादा दंगाई गिरफ्तार, 1000 से अधिक पर एफआईआर

उत्तर प्रदेश में 200 से ज्यादा दंगाई गिरफ्तार, 1000 से अधिक पर एफआईआर

Follow us on:

लखनऊ (मा.स.स.). उत्तर प्रदेश में प्रयागराज सहित कई जिलों में कल नमाज के बाद उपद्रव और हिंसा हुई. इस मामले में पुलिस लगातार एफआईआर और गिरफ्तारियां कर रही है. अब तक 200 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, तो वहीं 1000 से अधिक लोगों पर एफआईआर हो चुकी है. सीसीटीवी व वीडियो रिकॉर्डिंग की सहायता से दंगाइयों की पहचान के प्रयास भी लगातार जारी हैं.

कल उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक हिंसा प्रयागराज में हुई. हिंसा के बाद प्रशासन द्वारा प्रभावित क्षेत्र से 25 ट्रक ईट व पत्थर आदि उठाये.  इस हिंसाके मुख्य आरोपी जावेद पम्प को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. सूत्रों के अनुसार अब तक 70 आरोपी प्रयागराज से पुलिस के हत्थे चढ़ चुके हैं. पुलिस ने उसके पास से अहम सबूत मिलने का दावा किया है. शहर में तनाव के कारण कई जगह शनिवार को भी दुकाने बंद रहीं. यद्यपि पुलिस या प्रशासन की तरफ से ऐसी कोई पाबन्दी नहीं है.

राज्य का दूसरा सबसे उपद्रव प्रभावित शहर सहारनपुर था. यहां भी लगातार जांच और गिरफ्तारियां चल रही हैं. यहां पर हिंसा के पीछे बाहरी लोगों के होने का दावा किया जा रहा है. मुस्लिम पक्ष का आरोप है कि कुछ नए चेहरे मस्जिद के बाहर काला कुर्ता-पैजामा और नीली टोपी पहने थे. ये लोग भड़काऊ नारे  भी लगा रहे थे. इसी कारण बाद में हिंसा फैली. पहले से प्रदर्शन की कोई योजना नहीं थी. इन पर कोलड्रिंक में शराब मिलाकर पीने का आरोप भी लग रहा है.

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

उ.प्र. बजट 2022-23: विकास की सम्भावनाएं एवं चुनोतियाँ विषय पर आयोजित हुई राष्ट्रीय संगोष्ठी

लखनऊ  (मा.स.स.). इंडियन इकनोमिक एसोसियेशन (IEA) और हरिश्चंद्र पीजी कॉलेज अर्थशास्त्र विभाग वाराणसी के संयुक्त …