मंगलवार , अक्टूबर 04 2022 | 08:10:16 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / नरेन्द्र मोदी को भेंट किये गये स्मृति-चिह्नों की ई-नीलामी कल से होगी आरंभ

नरेन्द्र मोदी को भेंट किये गये स्मृति-चिह्नों की ई-नीलामी कल से होगी आरंभ

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). संस्कृति मंत्रालय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भेंट किये गये प्रतिष्ठित और स्मरणीय स्मृति-चिह्नों की चौथी ई-नीलामी का आयोजन कर रहा है, जो 17 सितंबर, 2022 से शुरू होकर दो अक्टूबर, 2022 को समाप्त होगी। संस्कृति, पर्यटन और उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्री जी. किशन रेड्डी ने आगामी नीलामी के बारे में मीडिया को जानकारी दी। इस अवसर पर संस्कृति और संसदीय कार्य राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल तथा संस्कृति और विदेश राज्यमंत्री मीनाक्षी लेखी भी उपस्थित थीं।

मीडिया को जानकारी देते हुये संस्कृति, पर्यटन और उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्री जी. किशन रेड्डी ने कहा, “2019 में खुली नीलामी के जरिये इन वस्तुओं को लोगों के लिये रखा गया था। उस समय 1805 उपहारों को नीलामी के पहले दौर में प्रस्तुत किया गया था और दूसरे दौर में 2772 उपहार रखे गये थे। वर्ष 2021 में भी सितंबर में ई-नीलामी का आयोजन किया गया, जिसमें हमने नीलामी के लिये 1348 वस्तुयें रखी थीं। इस वर्ष लगभग 1200 स्मृति-चिह्नों और उपहारों को नीलामी के लिये रखा गया है। स्मृति-चिह्नों को नई दिल्ली के राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में प्रदर्शित किया गया है। इन वस्तुओं को वेबसाइट पर भी देखा जा सकता है।”

इन वस्तुओं का विवरण देते हुये रेड्डी ने कहा, “नीलामी में रखे गये स्मृति-चिह्नों में शानदार पेंटिंग्स, मूर्तिकला, हस्तशिल्प और लोक कलाकृतियों को शामिल किया गया है। इनमें से कई वस्तुओं को पारंपरिक रूप से उपहार में दिया गया है, जैसे पारंपरिक अंगवस्त्रम, शॉल, पगड़ी-टोपी, रस्मी तलवारें। अन्य आकर्षक स्मृति-चिह्नों में अयोध्या के राम मंदिर तथा वाराणसी के काशी-विश्वनाथ मंदिर की अनुकृतियां शामिल हैं। हमारे पास खेल समृति-चिह्नों की भी दिलचस्प श्रेणी है।” उन्होंने कहा कि राष्ट्रमंडल खेल 2022, डेफलिम्पिक्स 2022 और थॉमस कप चैम्पियनशिप 2022 में टीम-इंडिया के शानदार प्रदर्शन ने हमें इतिहास में दर्ज कराया और हमने तमाम पदक जीते। टीमों और खेलों में विजेताओं ने जो स्मृति-चिह्न भेंट किये, उन्हें ई-नीलामी में रखा गया है। नीलामी की इस श्रेणी में 25 नये खेल स्मृति-चिह्न हैं।

जी. किशन रेड्डी ने कहा, “ नरेन्द्र मोदी भारत के ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने भारत की जीवन-रेखा – नमामि गंगे के जरिये गंगा के उद्धार जैसे पवित्र ध्येय के लिये अपने उपहारों की ई-नीलामी का निर्णय किया है। मैं सभी से आग्रह करता हूं कि वे उदार मन से नीलामी में हिस्सा लें और इस पवित्र ध्येय के लिये योगदान करें।” इस अवसर पर अर्जुन राम मेघवाल ने कहा, “पिछली नीलामी में हर राज्य और मूल के लोगों ने सक्रिय रूप से हिस्सा लिया था।” मेघवाल ने लोगों से आग्रह किया के वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिले प्रतिष्ठित उपहारों और स्मृति-चिह्नों की नीलामी में हिस्सा लें।

मीनाक्षी लेखी ने प्रधानमंत्री को दिये गये विभिन्न स्मृति-चिह्नों के महत्‍व को रेखांकित करते हुये बताया कि कैसे यह ई-नीलामी लोगों को नमामि गंगे में योगदान करने का शानदार अवसर प्रदान करती है। इस अवसर को और रुचिकर बनाने के लिये आम जनता के लिये गाइडेड टूर की व्यवस्था की गई है। साथ ही श्रवणबाधित लोगों के लिये सांकेतिक भाषा में पर्यटन की व्यवस्था भी की गई है। इसी तरह दृष्टिबाधित लोगों के लिये ब्रेल लिपि में पुस्तिकाओं को भी उपलब्ध कराया जायेगा। प्रदर्शन क्षेत्र जनता के लिये 17 सितंबर से दो अक्टूबर तक खुला रहेगा। प्रवेश नि:शुल्क है। नीलामी में जो धनराशि जमा होगी, उसे नमामि गंगे कार्यक्रम के पवित्र ध्येय के लिये लगा दिया जायेगा। उल्लेखनीय है कि नमामि गंगे कार्यक्रम हमारी राष्ट्रीय नदी गंगा के संरक्षण और उसके पुनरुद्दार की प्रमुख परियोजना है।

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://vyaparapp.in/store/Pustaknama/15

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

2022 में प्रधानमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कारों की राशि 20 लाख रुपये होगी

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), पृथ्वी विज्ञान राज्य मंत्री …