रविवार , अप्रेल 21 2024 | 07:29:05 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / नैनोपार्टिकल्स: मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण क्षेत्र में उभरते रुझान

नैनोपार्टिकल्स: मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण क्षेत्र में उभरते रुझान

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत सरकार की पहल “आज़ादी का अमृत महोत्सव” के हिस्से के रूप में, इंडियन जर्नल ऑफ़ बायोकैमिस्ट्री एंड बायोफिज़िक्स (आईजेबीबी), सीएसआईआर-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस कम्युनिकेशन एंड पॉलिसी रिसर्च (एनआईएससीपीआर), नई दिल्ली ने अपने नवंबर 2022 के अं‍क को एक विशिष्‍ट अंक के तौर पर निकाला है। इस अंक का विषय है- भारतीय संदर्भ में “नैनोपार्टिकल्स: इमर्जिंग ट्रेंडस इन ह्यूमन हेल्थ एंड एनवायरनमेंट”। सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर, भारत में एक प्रमुख सार्वजनिक रूप से वित्तपोषित विज्ञान संचार और नीति अनुसंधान संस्थान, विभिन्न एसटीआई विषयों में 16 पत्रिकाओं को प्रकाशित करता है, और उन सभी को प्रतिष्ठित राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों जैसे विज्ञान उद्धरण सूचकांक (विज्ञान का वेब), स्कोपस, एनएएएस और यूजीसी केयर द्वारा अनुक्रमित किया जाता है।

आईजेबीबी, बायोकैमिस्ट्री, बायोफिजिक्स और बायोटेक्नोलॉजी के विषय में एक मासिक प्रीमियर पीयर-रिव्यू रिसर्च जर्नल है, जो सभी विषयों में सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर पत्रिकाओं में जेआईएफ स्कोर 1.472 के साथ पहले स्थान पर है। प्रतिष्ठित राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों के साथ हाल ही में पुनर्गठित संपादकीय बोर्ड के सक्षम मार्गदर्शन और सक्रिय समर्थन के साथ, पत्रिका ने दुनिया भर में जैव रसायन, जैवभौतिकी और जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में शोधकर्ताओं और शिक्षाविदों का काफी ध्यान आकर्षित किया है। 106 पृष्ठों की गुणवत्तापूर्ण सामग्री के साथ इस विशेष अंक में 4 आमंत्रित समीक्षा लेख और 5 मूल शोध पत्र हैं जो व्यापक रूप से भारतीय संदर्भ में मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण पर नैनोकणों के अनुसंधान में उभरती प्रवृत्तियों को कवर करते हैं।

इन समीक्षा लेखों में विशिष्ट विषय क्षेत्रों में उपलब्धियों और भविष्य की चुनौतियों के बारे में संक्षेप में लिखा गया है। इनमें जीन थेरेपी सिस्टम, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस), पुरुष प्रजनन प्रणाली पर नैनोकणों का प्रभाव और स्थायी कृषि के क्षेत्र में नैनोटेक्नोलॉजिकल अनुप्रयोगों की भूमिका शामिल है। मूल शोध लेख में फंगल ब्लाइट राइस, सार्स-कोव-2 और मानव एसीई-2 रिसेप्टर में प्रोटीन लक्ष्य के खिलाफ फाइटोकेमिकल्स, जिंक ऑक्साइड नैनोकणों की रोगाणुरोधी क्षमता, गैर-इंजीनियर लैंडफिल द्वारा उत्पन्न पर्यावरणीय जोखिम और किशोरों के बीच चिंता के मुद्दे पर चर्चा की गई है।

इस विशेष अंक का प्रकाशन सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर, नई दिल्ली की निदेशक प्रो. रंजना अग्रवाल, आईजेबीबी के मुख्य संपादक डॉ. स्टीफन दिमित्रोव, आईजेबीबी के कार्यकारी संपादक डॉ. डीएन राव, और वरिष्ठ सहयोगियों आरएस जयसोमु और डॉ जी. महेश के सहयोग से ही संभव हो सका। इसके लिए विशेष पहल आईजेबीबी के वरिष्ठ वैज्ञानिक और वैज्ञानिक संपादक डॉ. एनके प्रसन्ना ने की। लेखकों, समीक्षकों के विशिष्‍ट योगदान के साथ ही इस पत्रिका का तय समय पर सफल प्रकाशन सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर की प्रिंट प्रोडक्शन टीम द्वारा प्रदान की गई तकनीकी सहायता के चलते संभव हो सका।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सूर्य ने किया रामलला का तिलक, देश के इन 8 मंदिरों में भी होता है सूर्य तिलकोत्सव

लखनऊ. अयोध्या के राम मंदिर में बुधवार को रामनवमी के मौके पर रामलला की प्रतिमा को सूर्य-तिलक …