शनिवार , अक्टूबर 08 2022 | 12:28:34 AM
Breaking News
Home / खेल / अमित शाह 36वें नेशनल गेम्स के शुभारम्भ व 11वें खेल महाकुम्भ के समापन समारोह में हुए शामिल

अमित शाह 36वें नेशनल गेम्स के शुभारम्भ व 11वें खेल महाकुम्भ के समापन समारोह में हुए शामिल

Follow us on:

अहमदाबाद (मा.स.स.). केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह आज अहमदाबाद के कांकरिया में 36वें नेशनल गेम्स-2022 के कर्टेन रेजर व 11वें खेल महाकुम्भ के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। अमित शाह ने राष्ट्रीय खेलों के शुभंकर और गीत का शुभारम्भ करने के साथ ही एक विशिष्ट वेबसाइट और मोबाइल एप्लिकेशन का अनावरण भी किया। समारोह में गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल और केन्द्रीय युवा कार्यक्रम व खेल मंत्री अनुराग ठाकुर समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति भी शामिल हुए।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि 10 साल पहले नरेन्द्र मोदी जी ने जब खेल महाकुंभ शुरू किया था उस वक्त गुजरात देश और दुनिया के खेल नक़्शे पर कहीं नहीं था। मोदी जी जब बीज बोया तब लगभग 11 लाख खिलाड़ियों ने खेल महाकुंभ में हिस्सा लिया और आज 11वें खेल महाकुंभ के समापन पर यह कहते हुए बहुत हर्ष हो रहा कि 11 लाख खिलाड़ियों से शुरू किए गए इन खेलों में इस बार 55 लाख से अधिक खिलाड़ियों ने भाग लिया। उन्होंने गुजरात सरकार को बधाई देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने इसी मंच से बस एक क्लिक के माध्यम से ही विजेताओं को 30 करोड़ रुपये की राशि ट्रांसफ़र करने का बहुत बड़ा काम किया है।

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि गुजरात ने नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में जो संकल्प लिया था उसके परिणामस्वरूप गुजरात आज देश और दुनिया में खेल की दुनिया में अपना स्थान अंकित कर चुका है। उन्होंने विश्वास जताया कि 36 वें राष्ट्रीय खेलों में भी गुजरात अपने सभी रिकॉर्ड तोड़ेगा। शाह ने कहा कि 36 वें राष्ट्रीय खेलों का 29 सितंबर से 12 अक्टूबर तक गुजरात के 6 शहरों में आयोजन होगा और इसमें क़रीब 20000 खिलाड़ी, कोच और अधिकारी हिस्सा लेंगे।

अमित शाह ने कहा कि गुजरात ने मोदी जी के नेतृत्व में खेलों का इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने में 10 साल के अंदर सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। आज कोई भी खेल ऐसा नहीं है जिसकी अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा गुजरात में आयोजित न की जा सके। गुजरात में नरेंद्र मोदी स्टेडियम है जो विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम है, उसी के साथ बहुत बड़ी स्पोर्ट्स सिटी बनने जा रही है, वो बनने के बाद शायद एक ही शहर में एक ही जगह पर विश्व का सबसे बड़ा स्टेडियम भी होगा और विश्व की सबसे बड़ी स्पोर्ट्स सिटी भी होगी। उन्होने कहा कि गुजरात देश में हर क्षेत्र के अंदर परिवर्तन का सारथी बना है, खेलों में भी गुजरात देश में परिवर्तन का सारथी बना है। शाह ने कहा कि मोदी जी ने खेलों के प्रमोशन के लिए बहुत सारे काम किए हैं। चाहे फिट इंडिया की शुरुआत हो या खेल महाकुंभ को आगे बढ़ाना हो और नेशनल गेम्स में जान भरनी हो, भारत सरकार ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए हर एसोसिएशन की मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

गृह मंत्री ने केंद्रीय युवा कार्यक्रम और खेल मंत्री अनुराग ठाकुर को हृदय से बहुत-बहुत बधाई देते हुए कहा कि ठाकुर ने भारत में खेलों को बढ़ावा देने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के प्रयास में जान डालने का काम किया है। उन्होंने कहा कि 2014 में भारत में खेलों के लिए 866 करोड़ रुपए का बजट था उसे 2022 में बढ़ाकर 2000 करोड़ रुपए करने का काम हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने किया है। ओलंपिक पदक जो पहले कभी दो मिलते थे अब हम 7 तक पहुंचे हैं, पैरा ओलंपिक में 4 से 19 पदक और डेफ ओलंपिक में 5 पदक से 16 पदक तक पहुंचे जबकि राष्ट्रमंडल में स्वर्ण पदक 15 से 22 हो गए हैं। उन्होंने कहा कि एशियाई गेम्स में 70 स्वर्ण पदक जीतकर भारत ने सभी रिकॉर्ड तोड़े दिये हैं और हमारे बैडमिंटन खिलाड़ियों ने थाईलैंड में थॉमस कप जीतकर इतिहास रच दिया।

शाह ने कहा कि पिछले 20 सालों में मोदी जी के नेतृत्व में गुजरात ने हर क्षेत्र में बहुत विकास किया और कई बहुत सारे ऐसे पैरामीटर्स तय किए हैं जिन्हें आने वाले दशकों तक शायद ही कोई तोड़ पाएगा। चाहे आर्थिक और औद्योगिक विकास हो, रोड इंफ्रास्ट्रक्चर बनाना हो, कोर्ट डेवलप करने हो, 24 घंटा बिजली पहुंचानी हो,आदर्श लॉ एंड ऑर्डर हो या फिर खेल हों गुजरात ने सभी क्षेत्रों में बहुत बढ़िया काम किया है। उन्होंने कहा कि यह सब इसलिए हो पाया क्योंकि मोदी जी नर्मदा का पानी कच्छ तक लेकर आए अगर गुजरात में मोदी जी भगीरथ बनकर न आते और नर्मदा का पानी कच्छ तक न पहुंचाते तो यह विकास संभव ही नहीं था। शाह ने कहा कि मगर आजकल कुछ लोगों ने नर्मदा का विरोध करने वाले को पिछले दरवाजे से गुजरात की राजनीति के अंदर प्रवेश करवाने की शुरुआत कर दी है। उन्होंने कहा कि गुजरात को बदनाम करने वाले और गुजरात के विकास का विरोध करने वालों का महिमामंडन गुजरात कभी स्वीकार नहीं करेगा।

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://vyaparapp.in/store/Pustaknama/15

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

राष्ट्रीय खेल पुरस्कार 2022 की अंतिम तिथि बढ़ाई गई

नई दिल्ली (मा.स.स.). युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय ने 27 अगस्त, 2022 को वर्ष 2022 के …