सोमवार , नवम्बर 28 2022 | 05:14:35 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / नि:शुल्क एहतियाती खुराक के लिए श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने टीकाकरण अभियान का किया आयोजन

नि:शुल्क एहतियाती खुराक के लिए श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने टीकाकरण अभियान का किया आयोजन

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तहत आज श्रम शक्ति भवन में कोविड-19 की मुफ्त एहतियाती खुराक के लिए टीकाकरण अभियान का आयोजन किया। श्रम एवं रोजगार, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेन्‍द्र यादव ने खुद को बूस्‍टर डोज लगवाकर टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। श्रम एवं रोजगार सचिव सुनील बर्थवाल ने भी कोविड-19 के लिए एहतियाती टीका लगवाया।

श्रम मंत्री ने कोविड-19 की मुफ्त एहतियाती खुराक के शुभारंभ के दौरान अपने संबोधन में सभी पात्र व्यक्तियों से टीकाकरण कराने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि खुद को सुरक्षित करके, समाज और देश को कोविड-19 महामारी से बचाया जा सकता है। उन्होंने बताया कि श्रम और रोजगार मंत्रालय तथा भारत भर में उसके संगठनों के सभी कर्मचारियों को अगले 75 दिनों में ईएसआईसी के डॉक्टरों/पैरा-मेडिकल्स की मदद से टीका लगाया जाएगा। इस आयोजन के दौरान 150 से अधिक लोगों को कोविड-19 की एहतियाती खुराक का टीका लगाया गया।

भारत सरकार ने पात्र वयस्कों को सरकारी टीकाकरण केन्‍द्रों पर कोविड-19 की मुफ्त एहतियाती खुराक उपलब्ध कराने के लिए देश भर में एक अभियान शुरू किया है। किसी भी ईएसआईसी अस्पताल में मुफ्त एहतियाती खुराक की सुविधा का लाभ उठाया जा सकता है। आजादी की 75वीं वर्षगांठ मनाते हुए, टीकाकरण अभियान आज से शुरू हुआ और अगले 75 दिन तक चलेगा।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

प्रल्हाद जोशी ने भारत के संविधान की प्रस्तावना के ऑनलाइन वाचन और प्रश्नोत्तरी के पोर्टल लॉन्च किए

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत के संविधान को अंगीकृत करने और संविधान निर्माताओं के योगदान के सम्मान …