बुधवार , अप्रेल 24 2024 | 08:32:29 AM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार ने डेफएक्सपो 2022 की तैयारियों की समीक्षा की

रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार ने डेफएक्सपो 2022 की तैयारियों की समीक्षा की

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). रक्षा सचिव डॉ. अजय कुमार ने 24 सितंबर, 2022 को नई दिल्ली में आयोजित शीर्ष समिति की बैठक के दौरान आगामी डेफएक्सपो 2022 की तैयारियों की व्यापक रूप से समीक्षा की। पंकज कुमार, मुख्य सचिव गुजरात सरकार और राज्य सरकार के साथ-साथ रक्षा मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस बैठक में शामिल हुए।

डेफएक्सपो का 12वां संस्करण गुजरात के गांधीनगर में 18 से 22 अक्टूबर, 2022 के बीच पहले चार-स्थल प्रारूप में आयोजित किया जा रहा है, जो जनता को शामिल करने और उन्हें एयरोस्पेस और रक्षा निर्माण क्षेत्र में भाग लेने के लिए प्रेरित करने का वादा करता है। बैठक के दौरान, रक्षा सचिव को इस द्विवार्षिक आयोजन के लिए हितधारकों द्वारा की जा रही कई व्यवस्थाओं के बारे में भी जानकारी दी गई। डॉ. अजय कुमार ने अधिकारियों से स्वदेशी रक्षा प्लेटफार्मों और उत्पादों के व्यापार और निर्यात को बढ़ावा देने पर ध्यान देने के साथ-साथ डेफएक्सपो22 की शानदार सफलता के लिए भरपूर प्रयास करने का भी आग्रह किया।

डेफएक्सपो 2022 का पहले 10 से 14 मार्च, 2022 तक आयोजन निर्धारित किया गया था जिसे उस चरण में प्रतिभागियों के सामने आने वाली लॉजिस्टिक चुनौतियों के कारण स्थगित कर दिया गया था। नई तारीखों (18 से 22 अक्टूबर, 2022) की घोषणा 08 अगस्त, 2022 को की गई थी। आगामी संस्करण विशेष रूप से भारतीय कंपनियों के लिए आयोजित होने वाला पहला संस्करण है। डेफएक्सपो 2022 के लिए, भारतीय कंपनियां, विदेशी ओईएम की भारतीय सहायक कंपनियां, भारत में पंजीकृत कंपनी का डिविजन, किसी भारतीय कंपनी के साथ संयुक्त उद्यम वाले प्रदर्शकों को भारतीय प्रतिभागी माना जाएगा।

डेफएक्सपो 2022 का विषय ‘पाथ टू प्राइड’ है और यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भारत को एक मजबूत और आत्मनिर्भर राष्ट्र के रूप में बदलने के लिए भारतीय एयरोस्पेस और रक्षा विनिर्माण क्षेत्रों के लिए भारतीयों के साथ-साथ वैश्विक ग्राहकों के लिए साझेदारी का समर्थन, प्रदर्शन और विकास करने के विजन के अनुरूप है। इसका उद्देश्य घरेलू रक्षा उद्योग की ताकत का प्रदर्शन करना है जो अब सरकार और राष्ट्र के ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ संकल्प को शक्ति प्रदान कर रहा है।

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ समारोह को ध्यान में रखते हुए, डेफएक्सपो 2022 को अपने पिछले संस्करण से बेहतर बनाने का वादा करता है क्योंकि इसे एक लाख वर्गमीटर (पिछला संस्करण 76,000 वर्गमीटर) के अब तक के सबसे बड़े क्षेत्र में आयोजित करने की योजना बनाई गई है। उद्घाटन समारोह और सेमिनार महात्मा मंदिर सम्मेलन और प्रदर्शनी केंद्र (एमएमसीईसी), हेलीपैड प्रदर्शनी केंद्र (एचईसी) में प्रदर्शनी, साबरमती रिवर फ्रंट (एसआरएफ) पर सभी पांच दिनों में लाइव प्रदर्शन और भारतीय तटरक्षकों द्वारा पोरबंदर में जनता के लिए जहाज की यात्रा आयोजित करने की योजना है। स्वदेशी आईआईटी दिल्ली स्टार्ट-अप मैसर्स बॉटलैब्स (एक आईडेक्स विजेता) द्वारा सबसे बड़े ड्रोन शो का भी आयोजन किया जाएगा, जो इस मेगा-इवेंट का एक बड़ा आकर्षण होगा। जगह की बिक्री 15 अगस्त, 2022 से शुरू हुई थी और अब तक 1,000 से अधिक प्रदर्शकों ने पंजीकरण करवा लिया है। यह संख्या डेफएक्सपो के पिछले संस्करणों के दौरान दर्ज की गई रिकार्ड संख्या से भी अधिक होने का अनुमान है।

आयोजन के क्रम में, राज्यों को पवेलियन स्थापित करने और स्वदेशी रक्षा निर्माण को बढ़ाकर राष्ट्र निर्माण में भाग लेने के लिए आमंत्रित करने के निमित्त एक राष्ट्रव्यापी पहुंच शुरू की गई है। कई राज्यों ने राज्य पवेलियन के रूप में भागीदारी करने का आश्वासन दिया है। राज्य पवेलियनों की बढ़ी हुई संख्या (जो वर्तमान में आठ है) से मुख्यमंत्रियों, उद्योग मंत्रियों, मुख्य सचिवों आदि को भी निवेश प्राप्त करने और अपने-अपने राज्यों को बढ़ावा देने का अवसर मिलेगा, इस प्रकार देश में स्वदेशी एयरोस्पेस और रक्षा निर्माण के लिए अधिक केंद्रों की स्थापना होगी। इसके साथ ही, स्टार्ट-अप्स और एमएसएमई द्वारा अधिक भागीदारी के लिए, स्थल शुल्क में 50 प्रतिशत की छूट देना का प्रस्ताव किया गया है।

इसके अलावा, एक राष्ट्रीय रक्षा एमएसएमई कॉन्क्लेव और प्रदर्शनी पहली बार कोटा, (राजस्थान) में 11 से 12 सितंबर, 2022 के दौरान सफलतापूर्वक आयोजित की गई है, जिसमें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला मुख्य अतिथि और रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट सम्मानित अतिथि थे। भारतीय सेना द्वारा स्वदेशी प्लेटफॉर्म पर किए गए स्थिर प्रदर्शन और बॉटलैब्स द्वारा किए गए ड्रोन शो को कोटा की जनता द्वारा खूब सराहा गया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा उत्पादन विभाग के प्रमुख पवेलियन- इंडिया पवेलियन में स्वदेशी रक्षा उत्पादों की परिपक्वता, स्टार्ट-अप्स, रक्षा में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सहित नवीनतम प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन किया जाएगा जो 2047 के लिए भारत के विजन को प्रस्तुत करेगा। जिसका नाम ‘पाथ टू प्राइड’ रखा गया है।

डेफएक्सपो 2022 पूर्ववर्ती आयुध निर्माणियों को मिलाकर बनाई गई सात नई रक्षा कंपनियों के गठन का एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्‍य में भी आयोजित किया जा रहा है। ये सभी कम्पनियां पहली बार डेफएक्सपो में भाग लेंगी। यह प्रदर्शनी भारत-अफ्रीका रक्षा वार्ता (आईएडीडी) के दूसरे संस्करण की मेजबानी भी करेगी, जिसमें 53 अफ्रीकी देशों को आमंत्रित किया गया है। लगभग 40 देशों की भागीदारी के साथ एक अलग हिंद महासागर क्षेत्र प्लस (आईओआर+) भी आयोजित होने वाला है। सरकार, उद्योग, उद्योग संघों, राज्यों, शिक्षाविदों, थिंक-टैंक आदि के प्रख्यात पैनलिस्टों के साथ डेफएक्सपो 2022 के सेमिनारों में गहन विचार-विमर्श किया जाएगा जिसमें इस क्षेत्र की आगामी प्रगति के लिए महत्वपूर्ण जानकारी/ टेक-अवे / कार्य बिन्दु उपलब्ध होंगे।

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://vyaparapp.in/store/Pustaknama/15

https://www.meesho.com/hindi-paperback-history-books/p/2r4nct

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

दी गई वीवीपैट से निकली पर्ची, तो नहीं रहेगी मतदान की गोपनीयता : चुनाव आयोग

नई दिल्ली. इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के वोटों और वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (VVPAT) …