सोमवार , नवम्बर 28 2022 | 04:41:19 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / जागरूकता आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन स्तर के परिणाम प्रदान करेगी : डॉ. भारती प्रवीण पवार

जागरूकता आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन स्तर के परिणाम प्रदान करेगी : डॉ. भारती प्रवीण पवार

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्‍याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने आज दिल्ली में राष्ट्रीय परिवार नियोजन शिखर सम्मेलन 2022 की अध्यक्षता की। इस कार्यक्रम में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में सचिव राजेश भूषण,  स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की अतिरिक्त सचिव रोली सिंह भी उपस्थित रहीं।

राष्ट्रीय परिवार नियोजन शिखर सम्मेलन में बोलते हुए डॉ. भारती प्रवीण पवार ने कहा कि  भारत परिवार नियोजन के महत्व को जल्दी ही समझ गया और 1952 में राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम शुरू करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। हमने तब से एक लंबा सफर तय किया है, परिवार नियोजन सेवाओं तक सार्वभौमिक पहुंच सुनिश्चित करने का प्रयास करते हुए खुशी हो रही है कि नवीनतम सर्वेक्षण रिपोर्टों के अनुसार भारत ने प्रतिस्थापन स्तर की प्रजनन क्षमता हासिल कर ली है, जिसमें 31 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों ने 2.1 या उससे कम की कुल प्रजनन दर हासिल की है। यह जानकर खुशी हो रही है कि आधुनिक गर्भ निरोधकों का उपयोग काफी हद तक बढ़कर 56.5% हो गया है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 5 भी अंतर के तरीकों की ओर एक समग्र सकारात्मक बदलाव दिखाता है जो मातृ और शिशु मृत्यु दर और रुग्णता को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने में सहायक होगा।

उन्होंने कहा ये लाभ सहकारी संघवाद की भावना से राष्ट्रीय और राज्य सरकारों के व्यवस्थित प्रयासों के साथ-साथ हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में हमारे लाखों से अधिक क्षेत्र के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के समर्पित प्रयासों की अभिव्यक्ति हैं। आज परिवार नियोजन को मातृ एवं बाल मृत्यु दर को कम करने के लिए एक प्रमुख पहल के रूप में विश्व स्तर पर पहचाना जाता है। जनसंख्या के मुद्दे केवल लोगों की संख्या से संबंधित नहीं हैं, बल्कि जनसांख्यिकीय, स्वास्थ्य और सामाजिक-आर्थिक संकेतकों पर इसका प्रभाव, जैसे विवाह की उम्र, लिंग अनुपात, मृत्यु दर, प्रजनन क्षमता आदि पर निर्भर हैं।

केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त, 2019 को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में व्यक्त किया कि जनसंख्या विस्फोट विशेष रूप से आने वाली पीढ़ियों के लिए नई समस्याएं पैदा कर सकता है। बढ़ती जनसंख्या गर्भावस्था और प्रसव के दौरान महिलाओं को होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं पर भी प्रकाश डालती है, जिससे परिवार नियोजन, लैंगिक समानता और मातृ स्वास्थ्य की आवश्यकता पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है! साथियों, आज जनसंख्या विस्फोट को नियंत्रित करने की पहले से कहीं अधिक आवश्यकता है। जैसा कि भारत सरकार आजादी का अमृत महोत्सव के माध्यम से आजादी के 75 साल का जश्न मनाने और मनाने के लिए तैयार है। आज पैदा की गई जागरूकता आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे, शैक्षणिक संस्थानों, बेहतर जीवन स्तर के परिणाम प्रदान करेगी।

सरकार के प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए, केन्‍द्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि भारत ने FP2030 साझेदारी का एक सदस्य होने के नाते, साझेदारी के प्रति अपनी प्रतिबद्धताओं के हिस्से के रूप में परिवार नियोजन में 3 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश किया है। मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि आठ वर्षों के कार्यकाल (2012- 2020 से) के दौरान, भारत ने आधुनिक गर्भ निरोधकों के लिए 1.5 करोड़ से अधिक अतिरिक्त उपयोगकर्ता जोड़े जिससे आधुनिक गर्भनिरोधक उपयोग में काफी वृद्धि हुई। भारतीय संदर्भ में जनसंख्या और विकास पर बहस अध्ययन के लिए दिलचस्प रही है और यह हमारी जनसंख्या नीतियों में परिलक्षित होती है। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कई बार इस मुद्दे को संबोधित किया है और सक्रिय रूप से जनसंख्या नियंत्रण के बारे में जागरूकता पैदा की है।

मेरी राय में, जनसंख्या को बल द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है, यह केवल जागरूकता है कि हम सीमित मात्रा में संसाधनों को साझा करने से जनसंख्या को कम करने में मदद मिलेगी। जनसंख्या नियंत्रण को बढ़ावा देने के लिए सरकार की नीतियां भी तैयार की गई हैं। केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि 2016 में मिशन परिवार विकास (एमपीवी) जैसे कार्यक्रमों ने राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम को और गति दी है। इस योजना के तहत, नई पहल किट, सास बहू सम्मेलन, सारथी वैन के वितरण जैसी नवीन रणनीतियां समुदाय तक पहुंचने और परिवार नियोजन, स्वस्थ जन्म अंतर और छोटे परिवारों के महत्व पर संवाद शुरू करने में मदद कर रही हैं।

उन्होंने कहा कि यह जानकर खुशी हो रही है कि 17 लाख से अधिक नई पहल किट नवविवाहितों को वितरित की गई हैं, 7 लाख से अधिक सास बहू सम्मेलन आयोजित किए गए हैं, और 32 लाख से अधिक ग्राहकों को शुरुआत से सारथी वैन के माध्यम से परामर्श दिया गया है। इसका परिणाम यह है कि एनएफएचएस 5 के आंकड़े आधुनिक गर्भनिरोधक उपयोग में पर्याप्त वृद्धि और सभी एमपीवी राज्यों में अधूरी जरूरत में कमी को दर्शाते हैं। चिकित्सा सुविधाओं और स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के कारण पिछले कुछ वर्षों में हमने प्रजनन क्षमता और मातृ मृत्यु दर में प्रभावशाली गिरावट देखी है।

प्रधानमंत्री द्वारा रखी गई मजबूत नींव के साथ मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति, बेहतर शासन, वित्त के प्रावधान, सावधानीपूर्वक योजना, कार्यान्वयन और प्रभावी निगरानी का प्रतिबिंब भी है। इस अवसर पर केंद्रीय राज्य मंत्री द्वारा परिवार नियोजन राज्य पुरस्कार के अंतर्गत उत्कृष्ट कार्य करने वाले राज्यों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर केंद्रीय राज्य मंत्री द्वारा पुस्तक का विमोचन भी किया गया।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

प्रल्हाद जोशी ने भारत के संविधान की प्रस्तावना के ऑनलाइन वाचन और प्रश्नोत्तरी के पोर्टल लॉन्च किए

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारत के संविधान को अंगीकृत करने और संविधान निर्माताओं के योगदान के सम्मान …