गुरुवार , अगस्त 11 2022 | 09:16:14 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / दूरस्थ लघु आकाशगंगा की रचना के रहस्यों पर से पर्दा उठाने के लिए हुआ अध्ययन

दूरस्थ लघु आकाशगंगा की रचना के रहस्यों पर से पर्दा उठाने के लिए हुआ अध्ययन

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). आकाशगंगा के बाहरी क्षेत्र के संकेत, जो 150 मिलियन वर्ष से अधिक के नहीं हैं, उनके विषय में हाल के अध्ययन से पता चला है कि वहां नये तारों की एक आकाशगंगा बन रही है। यह अनुसंधान इन युवा तारों के बारे में बताता है, जिसके अनुसार नये तारे जटिल समूहों या झुरमुटों में बन रहे हैं, अंदरूनी हिस्से की तरफ बढ़ रहे हैं और धीरे-धीरे इन आकाशगंगाओं में समा रहे हैं।

खगोल-भौतिकविज्ञानी यह जानने की कोशिश करते रहे हैं कि हमारे ब्रह्माण्ड की बुनियादी निर्माण इकाई आकाशगंगायें कैसे बनती हैं और लगातार क्रमिक विकास करती रहती हैं। लेकिन यह तस्वीर अब तक अधूरी है। एस्ट्रो-सैट पर लगा अल्ट्रा वायोलेट इमेजिंग टेलेस्कोप (यूवीआईटी) भारत का पहला समर्पित वेवलेंग्थ अंतरिक्ष वेधशाला है, जिसने हाल ही में फार अल्ट्रा वायोलेट (एफयूवी) की हल्की रोशनी को पकड़ा था। यह रोशनी दूरस्थ ब्लू कॉम्पेक्ट लघु आकाशगंगाओं के बाहरी क्षेत्रों में थी, जो लगभग 1.5 – 3.9 अरब प्रकाश वर्ष दूर है। ये लुघ आकाशगंगायें हैं, जो आमतौर पर सितारों के झुरमुट के रूप में देखी जाती हैं।

यह खोज भारत, अमेरिका और फ्रांस के खगोलविज्ञानियों के एक अंतर्राष्ट्रीय दल ने की है। यह आकाशगंगाओं की रचना के रहस्यों को जानने की दिशा में एक महत्त्वपूर्ण पहल है। ‘नेचर’ नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन खगोलशास्त्र एवं खगोल भौतिकी अन्तर-विश्वविद्यालय केन्द्र (आयुका), पुणे के प्रो. कनक साहा की देन है।

लेख के प्रमुख लेखक अंशुमान बोरगोहेन को विज्ञान एंव प्रौद्योगिकी विभाग की इन्सपायर फेलोशिप प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि आकाशगंगाओं के छोर पर ऐसे युवा तारों का बनने का कारण आमतौर पर आसपास से उठने वाली गैस होती है। यह गैस तारे का आकार लेने और फिर आकाशगंगा के पनपने की प्रक्रिया को तेज कर देती है। तेजपुर विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ता बोरगोहेन ने तेजपुर विश्वविद्यालय में भौतिकी के सहायक प्रोफेसर डॉ. रूपज्योति गोगोई तथा आयुका के खगोल-भौतिकी के प्रोफेसर कनक साहा के निर्देशन में काम किया है।

प्रो. कनक साहा ने कहा, “यूवीआईटी और यूवी की गहरी इमेजिंग तकनीक इन युवा, बड़े-बड़े तारों के झुरमुट का पता लगाने में बहुत अहम भूमिका निभाती हैं। ये तारे हमसे बहुत दूरी पर स्थित हैं, इसलिये इन धूमिल, गहरे नीले तारों के झुरमुट को पकड़ना बहुत चुनौतीपूर्ण था।” उन्होंने कहा कि इससे दूरस्थ लघु आकाशगंगाओं की रचना का ‘प्रत्यक्ष’ अवलोकन करने में मदद मिलती है।

आईबीएम रिसर्च डिविजन, अमेरिका के प्रमुख अनुसंधानकर्ता डॉ. ब्रूस एल्मेग्रीन ने भी अध्ययन में योगदान किया है। उन्होंने कहा, “यह हमेशा से रहस्य रहा है कि इस तरह की छोटी-छोटी आकाशगंगायें कैसे इतने सक्रिय तारों का झुरमुट बन जाती हैं। इन वेधशालाओं से पता चलता है कि दूर गैस के रिसाव से बाहरी हिस्से का दबाव भीतर की ओर पड़ता है। इस प्रक्रिया में ज्यादा गैस रिसने से तेजी आती है और तारों के जटिल समूह बन जाते हैं। आकाशगंगा के पूरे जीवन-काल पर यह सघनता पैदा हो जाती है।”

कॉलेज दी फ्रांस की प्रोफेसर और ऑब्जरवेटवॉयर दी पेरिस की प्रो फ्रांकोइस कोम्बेस, जो आलेख की सह-लेखक हैं, उन्होंने कहा कि यह खोज बताती है कि तारे बनने की प्रक्रिया कितनी अचरज भरी है और वह कैसे पुरानी धीमी गैस से शुरू होती है। उन्होंने कहा, “इन गैसपुंजों का बाहरी हिस्सा हलचल भरा होता है। गैसपुंज के बिखरने के बाद यह प्रक्रिया शुरू हो जाती है।” आलेख के सह-लेखक और आयुका और पीआई व यूवीआईटी के विशिष्ट प्रोफेसर डॉ. श्याम टंडन ने इस अध्ययन में यूवीआईटी आंकड़ों के महत्त्व को उजागर किया।

आयुका के सहयोगी और तेजपुर विश्वविद्यालय में भौतिकी के सहायक प्रोफेसर डॉ. रूपज्योति गोगोई ने कहा कि इस काम में भारत के स्वदेशी उपग्रह एस्ट्रो-सैट के आंकड़ों का इस्तेमाल किया गया है, जो देश के युवा अनुसंधानकर्ताओं के लिये प्रेरक बन सकता है। आयुका, पुणे के निदेशक प्रो. सोमक रायचौधरी और तेजपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. विनोद के. जैन ने ऐसे सहयोगात्मक कार्यों के लाभों को रेखांकित किया।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

नरेन्द्र मोदी ने फिलीपींस के राष्ट्रपति फर्डिनेंड मार्कोस जू. से फोन पर की बात

नई दिल्ली (मा.स.स.). प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने फिलीपींस के 17वें राष्ट्रपति के रूप में चुने जाने …