सोमवार, जुलाई 15 2024 | 01:00:06 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / पुस्तक रचना 2022 में प्रकाशन विभाग ने उत्कृष्टता के लिए नौ पुरस्कार जीते

पुस्तक रचना 2022 में प्रकाशन विभाग ने उत्कृष्टता के लिए नौ पुरस्कार जीते

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). भारतीय प्रकाशकों के शीर्ष निकाय, द फेडरेशन ऑफ इंडियन पब्लिशर्स (एफआईपी) के 42वें वार्षिक उत्कृष्टता पुरस्कार कार्यक्रम का आज नई दिल्ली में आयोजन किया गया। पुस्तक रचना 2022 में उत्कृष्टता के मामले में प्रकाशन विभाग निदेशालय ने अपने शीर्षकों के लिए विभिन्न श्रेणियों में नौ पुरस्कार जीते हैं।

डीपीडी ने ‘बैलेंसिंग द विजडम ट्री’ के लिए जनरल और ट्रेड बुक्स (अंग्रेजी), ‘भारत विभाजन की कहानी’ के लिए जनरल और ट्रेड बुक्स (हिंदी), ‘कोर्ट्स ऑफ इंडिया (मराठी) के लिए आर्ट एंड कॉफी टेबल बुक्स (क्षेत्रीय भाषा), ‘इंडिया 2022’ के लिए संदर्भ पुस्तकें (अंग्रेजी), ‘कोविड-19: वैश्विक महामारी’ के लिए वैज्ञानिक/तकनीकी/चिकित्सा पुस्तकें (हिंदी) और ‘कुरुक्षेत्र’ के लिए पत्रिकाएं और घरेलु पत्रिकाएं (हिंदी) की श्रेणियों में छह प्रथम पुरस्कार जीते। ‘लोकतंत्र के स्वर’ के लिए जनरल और ट्रेड पुस्तकें (हिंदी) की श्रेणी में एक द्वितीय पुरस्कार और ‘पिनुशी’ के लिए बाल पुस्तकें (सामान्य रुचि) (0-10 वर्ष) (हिंदी) और ‘अजकल (उर्दू)’ के लिए पत्रिकाओं और घरेलू पत्रिकाओं (क्षेत्रीय भाषाओं) की श्रेणियों में प्रभाग को दो तृतीय पुरस्कार प्रदान किए गए हैं।

पिछले वर्ष, प्रकाशन विभाग ने विभिन्न श्रेणियों में अपने विभिन्न प्रकाशनों के लिए दस पुरस्कार जीते थे। डीपीडी राष्ट्रीय महत्व के विषयों और भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को पाठकों के समक्ष लाने वाली पुस्तकों और पत्रिकाओं का भंडार है। 1941 में स्थापित, प्रकाशन विभाग भारत सरकार का एक प्रमुख प्रकाशन गृह है जो विभिन्न भाषाओं में पत्रिकाओं और इतिहास, कला, साहित्य, संस्कृति, वित्त, विज्ञान और खेल, गांधीवादी साहित्य, बच्चों के साहित्य के साथ-साथ राष्ट्रीय नेताओं के भाषणों और प्रसिद्ध हस्तियों की आत्मकथाओं सहित विविध विषयों पर किताबें और पत्रिकाएँ प्रदान करता है। यह प्रभाग पाठकों और प्रकाशकों के बीच न सिर्फ विश्वसनीयता को सिद्ध करता है अपितु विषय सामग्री की प्रामाणिकता के साथ-साथ अपने प्रकाशनों के उचित मूल्य के लिए बेहतर रूप से अपनी पहचान भी रखता है।

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://vyaparapp.in/store/Pustaknama/15

https://www.meesho.com/hindi-paperback-history-books/p/2r4nct

इस पुस्तक को ई-बुक के रूप में खरीदने हेतु कृपया निम्न लिंक पर क्लिक करें –

https://www.amazon.in/dp/B0BCH59SF8

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

जेडीयू ने पूर्व आईएएस मनीष वर्मा को बनाया राष्ट्रीय महासचिव

पटना. आईएएस की नौकरी छोड़कर राजनीति में आए मनीष वर्मा को जेडीयू का नया महासचिव …