शनिवार, मई 18 2024 | 05:45:25 PM
Breaking News
Home / राज्य / पूर्वोत्तर भारत / मणिपुर हिंसा रोकने के लिए अमित शाह ने किया शांति समिति का गठन

मणिपुर हिंसा रोकने के लिए अमित शाह ने किया शांति समिति का गठन

Follow us on:

इंफाल. मणिपुर हिंसा मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह एक्शन मोड में आ गए हैं। उन्होंने  मणिपुर के राज्यपाल की अध्यक्षता में एक शांति समिति का गठन किया है। इस समिति में मुख्यमंत्री भी शामिल होंगे। गृह मंत्रालय के मुताबिक, शांति समिति के सदस्यों में मुख्यमंत्री, राज्य सरकार के कुछ मंत्री, सांसद, विधायक और विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता शामिल हैं। मंत्रालय के मुताबिक, समिति में पूर्व सिविल सेवक, शिक्षाविद्, साहित्यकार, कलाकार, सामाजिक कार्यकर्ता और विभिन्न जातीय समूहों के प्रतिनिधि भी शामिल हैं।

बता दें, मणिपुर में हिंसा का दौर जारी है। ताजा मामला खोखेन गांव का है, जहां शुक्रवार को जवानों की वर्दी में आए मैती समुदाय के उग्रवादियों ने पहले कॉबिंग के बहाने ग्रामीणों को घरों के बाहर बुलाया और फिर उन पर फायरिंग करनी शुरू कर दी। इस गोलीबारी में एक महिला समेत तीन की मौत हो गई, जबकि दो लोग घायल हो गए। खोखेन गांव, पश्चिमी इंफाल जिले और कांगपोकपी के बीच में स्थित है, जहां शुक्रवार को हिंसा हुई। जिन लोगों की मौत हुई है, वे अलग-अलग समुदाय के हैं। घटना के बाद सेना, पुलिस और असम राइफल्स के जवान मैती उग्रवादियों की तलाश में जुटी हुई हैं।

मणिपुर हिंसा की जांच सीबीआइ कर रही है। सीबीआइ ने अभी तक छह एफआइआर दर्ज की है, जिसमें पांच आपराधिक साजिश की है। सीबीआइ इस बात का पता लगाएगी कि तीन मई से जारी कुकी और मैती समुदाय के बीच हिंसा किसी साजिश का हिस्सा तो नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने मणिपुर हिंसा के समय इंटरनेट पर प्रतिबंध के खिलाफ दायर याचिका को तत्काल सुनने से इनकार कर दिया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि हाईकोर्ट पहले ही मामला सुन रहा है। इसलिए दोहरी सुनवाई की जरूरत नहीं है।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा राज्य में जारी हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और कुछ अन्य लोगों से मुलाकात करेंगे। बता दें, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपने मणिपुर दौरे के दौरान रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एक न्यायिक आयोग के गठन की घोषणा की थी। गृह मंत्रालय ने बाद में इस पर मुहर लगा दी। मंत्रालय के मुताबिक, न्यायिक आयोग हिंसा के कारणों और प्रसार के साथ ही दंगों की जांच करेगा।

साभार : दैनिक जागरण

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www.amazon.in/dp/9392581181/

https://www.flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अगर कांग्रेस से कोई जीतता भी है तो वह बीजेपी में आ जाएगा : हिमंत बिस्वा सरमा

गुवाहाटी. असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने एक ऐसी बात कह दी है, जिसे सियासी …