शनिवार, मई 18 2024 | 05:49:30 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / पूर्व पाकिस्तानी सैन्य जनरल की पोती ने ली जिन्ना हाउस पर अटैक की जिम्मेदारी

पूर्व पाकिस्तानी सैन्य जनरल की पोती ने ली जिन्ना हाउस पर अटैक की जिम्मेदारी

Follow us on:

इस्लामाबाद. पाकिस्तान की फैशन डिजाइनर खादिजा शाह जिन्ना हाउस पर हमले के बाद से ही विवादों में चल रही हैं। 9 मई को इमरान खान की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान में हिंसा भड़क गई थी। इमरान खान समर्थकों ने जिन्ना हाउस पर भी हमल कर दिया था। जिन्ना हाउस लाहौर के कोर कमांडर का घर है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार खादिजा पाकिस्तान के तहरीक ए इंसाफ पार्टी की समर्थ बताई जाती हैं। माना जा रहा है कि खादिजा को भी गिरफ्तार किया जा सकता है। खादिजा, पाकिस्‍तान आर्मी के पूर्व सैन्य जनरल ख्‍वाजा आसिफ जंजुआ की पोती हैं। खादिजा एक ऑडियो वायरल हो रहा है जिसमें वह बता रही हैं कि पाकिस्‍तान की सेना उनके पूरे परिवार को किस तरह परेशान कर रही हैं।

हमले की मुख्‍य अभियुक्‍त हैं खादिजा

खादिजा को जिन्‍ना हाउस पर हमले का मुख्‍य अभियुक्‍त बताई जा रही हैं। उनका जो ऑडियो आया है उसमें उन्‍होंने पंजाब पुलिस और सेना पर कई आरोप लगाए हैं। य‍ह ऑडियो 16 मिनट का है। रविवार को उन्‍होंने सरेंडर करने की बात कही है। इसमें खादिजा ने माना है कि वह पीटीआई की समर्थक हैं और लाहौर के कोर कमांडर घर के बाहर हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल थीं। हालांकि उन्‍होंने इस बात से इनकार कर दिया है कि उन्‍होंने लोगों को हिंसा के लिए भड़काया।

खुद को इमरान खान की समर्थक बताया

उन्‍होंने बस इतना ही कहा कि विरोध प्रदर्शन में हिस्‍सा उन्‍होंने इमरान खान के समर्थक के तौर पर लिया था। खदीजा शाह, देश के पूर्व वित्‍त मंत्री डॉक्‍टर सलमान शाह की बेटी है जो पूर्व राष्‍ट्रपति परवेज मुशर्रफ के शासन के समय उनकी टीम में थे। शाह के दादा ख्‍वाजा आसिफ जंजुआ एक सेना प्रमुख थे जिनकी मौत आज भी एक रहस्‍य बनी हुई है। शाह ने कहा कि किसी भी लोकतांत्रिक देश में किसी भी स्थान के बाहर विरोध प्रदर्शन करने में कुछ भी गलत नहीं है।

इमरान की पार्टी ने इस मामले में ली सुप्रीम कोर्ट की शरण

गौरतलब है कि इमरान खान की पार्टी आर्मी की कोर्ट के मुकदमे से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट की शरण में पहुंची है। इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी यानी पीटीआई ने सैन्य प्रतिष्ठानों पर 9 मई के हमलों में शामिल नागरिकों के खिलाफ सैन्य अदालतों में मुकदमा चलाने के खिलाफ सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया।

 

साभार : इंडिया टीवी

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www.amazon.in/dp/9392581181/

https://www.flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

चीन ने किया रहस्यमयी युद्धपोत का समुद्री ट्रायल

बीजिंग. चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी नेवी (पीएलएएन) के नए युद्धपोत की तस्वीर लीक हो …