शनिवार , मार्च 02 2024 | 03:03:58 PM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / एलन मस्क अब नहीं देंगे गाजा को अपनी ‘स्टारलिंक’ इंटरनेट सेवा

एलन मस्क अब नहीं देंगे गाजा को अपनी ‘स्टारलिंक’ इंटरनेट सेवा

Follow us on:

गाजा. अपने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर यहूदी समुदाय के संबंध में पक्षपाती पोस्ट को बढ़ावा मिलने के लिए आलोचनाओं का सामना कर रहे एलन मस्क ने इजरायल का दौरा किया। मस्क और इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कफर अजा किबुत्ज का दौरा किया, जहां हमास के उग्रवादियों ने सात अक्टूबर को भीषण हमला किया था, जिसके बाद युद्ध शुरू हो गया था। नेतन्याहू के कार्यालय की ओर से जारी किए गए वीडियो के अनुसार, मस्क ने एक सुरक्षात्मक परिधान पहन रखे थे और सुरक्षाकर्मियों की एक टोली से घिरे हुए थे।

मस्क और प्रधानमंत्री ने कुछ पीड़ितों के घरों का दौरा किया, जिसमें इजरायल और अमेरिका की दोहरी नागरिकता वाली चार वर्षीय लड़की अबीगैल एडन का परिवार भी शामिल था, जिसे उसके माता-पिता की हत्या के बाद हमास की ओर से बंधक बना लिया गया था। मस्क ने बाद में नेतन्याहू के साथ ‘एक्स स्पेसेज’ बातचीत में कहा, ‘नरसंहार के दृश्य को देखना परेशान करने वाला था।’ मस्क ने कहा कि वह उन वीडियो और तस्वीरों से परेशान हैं जो प्रधानमंत्री ने उन्हें बच्चों सहित नागरिकों की हत्याओं के बारे में दिखाईं।

राष्ट्रपति से भी मिलेंगे मस्क

मस्क का इजरायल के राष्ट्रपति इसहाक हर्जोग और पूर्व रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज से भी मिलने का कार्यक्रम है। सरकार के प्रवक्ता इलोन लेवी ने यह कहने से इनकार कर दिया कि क्या मस्क को आमंत्रित किया गया था। एक्स (पूर्व में ट्विटर) ने टिप्पणी के अनुरोध का जवाब नहीं दिया। इजरायल के संचार मंत्री श्लोमो करही ने पोस्ट कर उस समझौते के बारे में बताया था, जो उनके मंत्रालय ने मस्क की स्टारलिंक उपग्रह इंटरनेट कंपनी के साथ किया था।

बिना मंजूरी गाजा में कोई इंटरनेट नहीं

मस्क ने सुझाव दिया था कि गाजा में मदद से जुड़ी एजेंसियों को स्टारलिंक के जरिए इंटरनेट सुविधा दी जाए। करही ने अधिक विवरण प्रदान किए बिना पोस्ट में कहा, ‘इस महत्वपूर्ण समझौते के परिणामस्वरूप, स्टारलिंक उपग्रह इकाइयों को केवल इजराइली संचार मंत्रालय की मंजूरी के बाद ही गाजा पट्टी सहित इजरायल में संचालित किया जा सकता है। बिना मंजूरी कोई इंटरनेट नहीं मिलेगा।’ पिछले साल ट्विटर को खरीदने के बाद से मस्क को प्रमुख यहूदी नागरिक अधिकार संगठन ‘एंटी-डिफेमेशन लीग’ और अन्य लोगों की ओर से मंच पर यहूदी विरोधी संदेशों को नहीं हटाने के लिए आरोपों का सामना करना पड़ा है।

साभार : नवभारत टाइम्स

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon।in/dp/9392581181/

https://www।flipkart।com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

1971 की तरह फिर टूट सकता है पाकिस्तान : अफगानिस्तान

काबुल. तालिबानी नेता अहमद यासिर ने 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध की एक तस्वीर शेयर करके …