शनिवार , मार्च 02 2024 | 03:26:48 PM
Breaking News
Home / राष्ट्रीय / गाय की सेवा में राम मंदिर जैसा आनंद है, यह सबसे बड़ा पुण्य : डॉ. मोहन भागवत

गाय की सेवा में राम मंदिर जैसा आनंद है, यह सबसे बड़ा पुण्य : डॉ. मोहन भागवत

Follow us on:

लखनऊ. समाज की आखिरी लाइन में खड़े व्यक्ति की जब उन्नति होती है, तब देश की उन्नति होती है। भारत हमेशा भारत ही रहेगा। गाय का संबंध देश में सभी प्रकार के विकास से है। इसीलिए गौ की सेवा करना सबसे बड़ा पुण्य का काम है। ये बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत ने मंगलवार को मथुरा में कहीं। इसी के साथ उन्होंने देश के पहले गौ विज्ञान एवं अनुसंधान केंद्र का लोकार्पण भी किया। यह केंद्र पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जन्मस्थली के नजदीक परखम गांव में बना है।

देसी गाय के दूध की महिमा सब लोग मानते हैं
भागवत ने कहा, ”देसी गाय के दूध की महिमा आज सब लोग मानते हैं। इसीलिए लोग गौशाला में योगदान करने आ रहे हैं। कुछ समय पहले लोग गायों को भूल गए थे, मगर अब याद कर रहे हैं। इसीलिए देश आगे बढ़ रहा है। भारत का उत्थान तब होता है, जब धर्म का उत्थान होता है। भारत के आगे बढ़ने के साथ गायों के कदम आगे बढ़ रहे हैं। दुनिया के सामने इस विषय को रखना है।” उन्होंने कहा, ”आयुर्वेद के आधार पर पशु चिकित्सा, गौ पंचागव्य पर अनुसंधान करने वाला संस्थान खड़ा करना है। बहुत महत्वाकांक्षी योजना है बिना थके, बिना हारे चलना पड़ेगा। अच्छे काम की परीक्षा होती है। इस संस्थान के कार्यकर्ता तो करेंगे ही उनके पीछे संघ की शक्ति है, लेकिन सभी लोगों को गौ सेवा में हाथ बढ़ाना चाहिए।”

22 जनवरी को रामलला अपने मंदिर में जाएंगे
22 जनवरी को रामलला अपने मंदिर में जाएंगे। जैसा आनंद हम उस समय महसूस करेंगे, वैसा ही आनंद गाय सेवा से आना चाहिए। भाजपा के संस्थापक पं दीनदयाल उपाध्याय की जन्मस्थली दीनदयाल धाम के समीप स्थित परखम में 20 करोड़ रुपए की लागत से एशिया का सबसे बड़ा गौ विज्ञान, अनुसंधान और प्रशिक्षण केंद्र बनाया गया है। मंगलवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत ने इसी का लोकार्पण किया।

यह एक ऐसा अनूठा केंद्र होगा, जहां गायों की नस्ल और पंचगव्य पर रिसर्च किए जाएंगे। अगले दो साल में इस केंद्र में करोड़ों की लागत से 12 से अधिक अन्य परियोजनाओं की भी स्थापना की जाएगी। जिसके लिए तेजी से काम किया जा रहा है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से मंगला माता, शंकर जी, राघवेंद्र जी के अलावा मंच पर साध्वी प्राची, संत सुतीक्षण दास, संत बलराम दास बाबा, संत गोपेश बाबा, धर्माचार्य संजीव कृष्ण, रसिया बाबा, पार्वती बल्लभ, राम विलास चतुर्वेदी आदि मौजूद रहे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी, संगठन महामंत्री धर्मपाल, संगीत सोम सहित कई सांसद और विधायक मौजूद रहे। संचालन अतुल भारद्वाज ने किया।

दीनदयाल गौ विज्ञान अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र में होंगे ये काम
परखम गांव में बनाए गए दीनदयाल गौ विज्ञान अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र का संचालन दीनदयाल कामधेनु गौशाला समिति करेगी। इस केंद्र में गौ वंश नस्ल सुधार, पंचगव्य की गुणवत्ता सुधार पर विश्व स्तरीय शोध कार्य किए जाएंगे। पंचगव्य से मनुष्यों की चिकित्सा, कैंसर जैसे रोगों का इलाज वैज्ञानिक पद्धति से किया जाएगा।

देश का पहला पशु आयुर्वेद चिकित्सा संस्थान होगा
दीनदयाल गौ विज्ञान अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केंद्र देश का पहला पशु अस्पताल होगा जहां आयुर्वेद से पशु चिकित्सा का अध्ययन किया जायेगा। आयुर्वेद से पशु चिकित्सा भी की जायेगी। भारत की पारंपरिक पशु चिकित्सा जो कि हमारे प्राचीन ग्रंथों में समाहित है,का व्यावहारिक प्रयोग किया जाएगा।

शाम को पहुंचे थे संघ प्रमुख
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत देर शाम फरह स्थित नगला दीनदयाल धाम पहुंचे। संघ व भाजपा के पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया। इस दौरान सर संघचालक मोहन भागवत ने पं दीनदयाल उपाध्याय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

डीएम-एसएसपी ने परखी सुरक्षा व्यवस्था
संघ प्रमुख मोहन भागवत के मथुरा दौरे को लेकर डीएम शैलेंद्र सिंह और एसएसपी शैलेश पांडे परखम गांव पहुंचे। जहां उन्होंने कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने मंच,भवन,सभा स्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। इसके बाद उन्होंने संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

साभार : दैनिक भास्कर

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon।in/dp/9392581181/

https://www।flipkart।com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

गगनयान के साथ अंतरिक्ष में जाने वाले 4 एस्ट्रोनॉट्स के नाम हुए घोषित

तिरुवनंतपुरम. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को केरल के तिरुवनंतपुरम स्थित विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (VSCC) …