रविवार , अप्रेल 21 2024 | 09:08:36 PM
Breaking News
Home / राज्य / पश्चिम बंगाल / संदेशखाली कांड को कारण बता तापस राय ने छोड़ा ममता बनर्जी का साथ

संदेशखाली कांड को कारण बता तापस राय ने छोड़ा ममता बनर्जी का साथ

Follow us on:

कोलकाता. भ्रष्टाचार और संदेशखलीकांड को लेकर तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तापस राय ने विधायक और पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। बीते कुछ समय पहले ही उन्होंने पार्टी छोड़ने के संकेत दिए थे।

संदेशखाली मुद्दे को लेकर थे नाराज

वरिष्ठ टीएमसी विधायक तापस रॉय ने सोमवार को पार्टी की कार्यप्रणाली और संदेशखाली मुद्दे से निपटने के तरीके पर नाराजगी व्यक्त की और लोकसभा चुनाव से पहले संगठन छोड़ने के संकेत दे दिए थे। विधानसभा में टीएमसी के उप मुख्य सचेतक रॉय ने जनवरी में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा उनके आवास पर छापेमारी के दौरान कथित तौर पर उनके साथ नहीं खड़े होने के लिए पार्टी नेतृत्व की आलोचना की।

मैं पार्टी के कामकाज के तरीके ने निराश हूं- रॉय

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, मैं पार्टी के कामकाज के तरीके से वास्तव में निराश हूं। मैं पार्टी और सरकार पर लगे भ्रष्टाचार के इतने सारे आरोपों से तंग आ चुका हूं। दूसरे, संदेशखाली मुद्दे को जिस तरह से संभाला गया, मैं उसका समर्थन नहीं करता। वरिष्ठ टीएमसी नेता कुणाल घोष और ब्रत्य बसु ने उन्हें मनाने की कोशिश में आज सुबह रॉय से उनके आवास पर मुलाकात की। रॉय का उत्तरी कोलकाता से टीएमसी सांसद सुदीप बंदोपाध्याय के साथ विवाद चल रहा है। उन्होंने कहा, मैं पिछले 25 साल से पार्टी का वफादार सिपाही रहा हूं। लेकिन मुझे मेरा हक नहीं मिला।

साभार : दैनिक जागरण

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon.in/dp/9392581181/

https://www।flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

संदेशखाली हिंसा पीड़ितों के लिए सीबीआई ने जारी की एक अलग ई-मेल आईडी

कोलकाता. पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में जमीन हड़पने वाले पीड़ितों के लिए सीबीआई ने ई-मेल …