रविवार , अप्रेल 21 2024 | 07:48:09 PM
Breaking News
Home / व्यापार / मोदी सरकार ने प्याज के निर्यात पर से हटाया प्रतिबंध

मोदी सरकार ने प्याज के निर्यात पर से हटाया प्रतिबंध

Follow us on:

नई दिल्‍ली. प्‍याज किसानों और व्‍यापारियों के लिए अच्‍छी खबर आई है. केंद्र सरकार ने प्‍याज के निर्यात पर लगाया बैन (Onion Export Ban Lift) हटा लिया है. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Union Minister Amit Shah) की अध्यक्षता वाली मंत्री समिति ने प्याज निर्यात को मंजूरी दी है. शुरुआत में 3 लाख मीट्रिक टन प्याज निर्यात होगा. देश में प्याज की बढ़ती कीमतों (Onion Price) पर अंकुलश लगाने के लिए सरकार ने निर्यात बैन कर दिया था. इसकी डेडलाइन 31 मार्च 2024 तय की थी, लेकिन डेडलाइन खत्म होने से पहले ही इस प्रतिबंध को हटा दिया गया है.

गुजरात और महाराष्ट्र में प्याज के पर्याप्‍त स्टॉक को देखते हुए सरकार ने प्‍याज निर्यात से बैन हटाया है. मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों का कहना है कि केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने केंद्रीय गृहमंत्री को प्याज किसानों की स्थिति से अवगत कराया था. प्याज उत्पादक क्षेत्रों में प्याज समेत अन्य सब्जियों की कीमतों में गिरावट आने और देश में प्‍याज का पर्याप्‍त भंडार होने के चलते ही सरकार ने निर्यात प्रतिबंध समाप्‍त करने का फैसला लिया है.

कीमत बढ़ने पर लगाया था बैन

प्याज के उत्पादन में कमी और आसमान पर पहुंची कीमतों के चलते केंद्र सरकार ने बीते 8 दिसंबर को प्याज के निर्यात पर बैन लगा दिया था. 31 मार्च 2024 तक के ये बैन लगाया गया है. पिछले साल दिसंबर महीने में प्याज की कीमतों में तेज बढ़ोतरी देखने को मिली थी, तब प्याज के दाम 100 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए थे. इसके बाद सरकार सक्रिय हुई, जिससे कीमतों पर लगाम लगी.

सरकार ने बेचा सस्‍ता प्‍याज

प्याज निर्यात बैन के साथ ही सरकार ने लोगों को सस्ती प्याज बेचने के लिए भी कदम उठाए और बफर स्टॉक से 25 रुपये प्रति किलो के हिसाब से प्याज बेचा गया. निर्यात बैन के बाद प्याज के सबसे बड़े उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में प्याज की कीमत घट गई. इससे देश के सभी हिस्सों में प्याज की मांग और खपत के अनुरूप सप्लाई होने लगी. होलसेल मंडियों में प्याज की अच्छी आवक से भाव नरम हो गए है.

साभार : न्यूज18

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon.in/dp/9392581181/

https://www।flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अब अमूल दूध पिएगा अमेरिका, एक और आधा गैलेन का होगा पैक

वाशिंगटन. अमूल दूध पीता है इंडिया… नहीं-नहीं अब ये गाना सिर्फ इंडिया वाले ही नहीं, …