गुरुवार, मई 23 2024 | 11:15:32 AM
Breaking News
Home / अंतर्राष्ट्रीय / अब अमूल दूध पिएगा अमेरिका, एक और आधा गैलेन का होगा पैक

अब अमूल दूध पिएगा अमेरिका, एक और आधा गैलेन का होगा पैक

Follow us on:

वाशिंगटन. अमूल दूध पीता है इंडिया… नहीं-नहीं अब ये गाना सिर्फ इंडिया वाले ही नहीं, बल्कि अमेरिका वाले भी गुनगुनाएंगे, क्योंकि अब अमूल ब्रांड का दूध अमेरिका भी मजे से पिएगा. इसी के साथ अमूल ब्रांड की मालिक गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन ने एक नया इतिहास भी रच दिया है. अमेरिका में किसी भारतीय डेयरी ब्रांड की ये पहली एंट्री है. भारत में रोजाना लाखों लीटर ताजे दूध (फ्रेश मिल्क) की सप्लाई करने वाला अमूल ब्रांड अब अमेरिका में भी अपना जलवा दिखाएगा. अमूल ब्रांड यहां फ्रेश मिल्क सेगमेंट में काम करेगा.

108 साल पुरानी डेयरी के साथ डील

अमेरिका में अमूल ब्रांड का दूध बेचने के लिए गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (जीसीएमएमएफ) ने अमेरिका की 108 साल पुरानी डेयरी ‘मिशिगन मिल्क प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन’ से डील की है. इस बारे में जीसीएमएमएफ के मैनेजिंग डायरेक्टर जयेन मेहता ने को-ऑपरेटिव की एनुअल मीटिंग में ऐलान किया. ये पहली बार है जब अमूल ब्रांड की फ्रेश मिल्क रेंज को भारत से बाहर अमेरिका जैसे मार्केट में लॉन्च किया जा रहा है. अमेरिका में भारतीय मूल के समुदाय की एक बड़ी आबादी रहती है.

इतनी पैकेजिंग में ऐसे मिलेगा अमूल मिल्क

अमूल मिल्क को अमेरिका में एक गैलन (3.8 लीटर) और आधा गैलन (1.9 लीटर) की पैकेजिंग में बेचेगा. अमेरिका में 6% फैट वाला अमूल गोल्ड ब्रांड, 4.5% फैट वाला अमूल शक्ति ब्रांड, 3% फैट वाला अमूल ताजा और 2% फैट अमूल स्लिम ब्रांड ही सेल किया जाएगा. इन ब्रांड्स को अभी ईस्ट कोस्ट और मिड-वेस्ट मार्केट में बेचा जाएगा. अमूल भारत में भी घर-घर में पहचाना जाने वाला नाम है. ये भारत के सुपर ब्रांड्स में से एक है. इतना ही नहीं भारत में ‘श्वेत क्रांति’ लाने में अमूल का बड़ा योगदान है. इसकी सफलता ने ही भारत में डेयरी को-ऑपरेटिव को बड़े पैमाने पर फैलाया और इसी के चलते नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड की भी नींव पड़ी.

साभार : टीवी9 भारतवर्ष

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon.in/dp/9392581181/

https://www।flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

ईरान के राष्ट्रपति की मृत्यु पर उन्हीं के देश में आतिशबाजी कर मनाया गया जश्न

तेहरान. हेलीकॉप्टर दुर्घटना में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी और विदेश मंत्री अमीर अब्दुल्लाहियां समेत …