रविवार , अप्रेल 21 2024 | 07:29:43 PM
Breaking News
Home / व्यापार / वित्त वर्ष 2023-24 की तीसरी तिमाही में देश की जीडीपी 8.4% रही

वित्त वर्ष 2023-24 की तीसरी तिमाही में देश की जीडीपी 8.4% रही

Follow us on:

नई दिल्ली. वित्तवर्ष 2023-24 की तीसरी तिमाही में देश की आर्थिक विकास दर 8.4 प्रतिशत रही जो पांच तिमाहियों में सबसे ज्यादा है. इसके साथ ही राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) ने पूरे वित्तवर्ष के लिए विकास अनुमान बढ़ाकर 7.6 प्रतिशत कर दिया है. इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आर्थिक विकार दर बढ़ने पर अपनी खुशी जाहिर की है. पीएम मोदी ने गुरुवार को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर लिखा, ‘2023-24 की तीसरी तिमाही में 8.4% की मजबूत जीडीपी वृद्धि भारतीय अर्थव्यवस्था की ताकत और इसकी क्षमता को दर्शाती है. हमारे प्रयास तेज आर्थिक विकास लाने के लिए जारी रहेंगे जिससे 140 करोड़ भारतीयों को बेहतर जीवन जीने और एक विकसित भारत बनाने में मदद मिलेगी.’

NSO द्वारा गुरुवार को जारी आंकड़ों में कहा गया है कि 2023-24 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में स्थिर मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 43.72 लाख करोड़ रुपये रहा. वित्तवर्ष 2022-23 की समान तिमाही में यह 40.35 लाख करोड़ रुपये रहा था. इस प्रकार इसमें 8.4 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है जो 2022-23 की पहली तिमाही के बाद सबसे ज्यादा है. इसमें विनिर्माण क्षेत्र की 11.6 प्रतिशत और कंस्ट्रक्शन क्षेत्र की 9.5 प्रतिशत की वृद्धि दर शामिल है. NSO ने पूरे वित्त वर्ष के लिए दूसरा पूर्वानुमान भी जारी किया है. इसमें कहा गया है, ‘भारतीय अर्थव्यवस्था वित्तवर्ष 2023-24 में सकल घरेलू उत्पाद की 7.6 प्रतिशत की वृद्धिदर के साथ मजबूत रही, जो वित्त वर्ष 2022-23 की सात प्रतिशत की वृद्धि दर से अधिक है.’

इसके अनुसार कंस्ट्रक्शन क्षेत्र की वृद्धि दर 10.7 प्रतिशत और विनिर्माण क्षेत्र की 8.5 प्रतिशत रहने की उम्मीद है. नवीनतम अद्यतन आंकड़े आने के बाद चालू वित्तवर्ष की पहली तिमाही के लिए विकास दर पहले के अनुमान 7.8 प्रतिशत से संशोधित कर 8.2 प्रतिशत और दूसरी तिमाही के लिए 7.6 प्रतिशत से बढ़ाकर 8.1 प्रतिशत कर दिया है. नवीनतम आंकड़ों से पता चलता है कि भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती बड़ी अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी विकास गति को बरकरार रख रहा है, जिसे वैश्विक मंदी के बीच एक चमकीले सितारे के रूप में देखा जा रहा है.

साभार : जी न्यूज़

भारत : 1857 से 1957 (इतिहास पर एक दृष्टि) पुस्तक अपने घर/कार्यालय पर मंगाने के लिए आप निम्न लिंक पर क्लिक कर सकते हैं

https://www।amazon.in/dp/9392581181/

https://www।flipkart.com/bharat-1857-se-1957-itihas-par-ek-drishti/p/itmcae8defbfefaf?pid=9789392581182

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

अब अमूल दूध पिएगा अमेरिका, एक और आधा गैलेन का होगा पैक

वाशिंगटन. अमूल दूध पीता है इंडिया… नहीं-नहीं अब ये गाना सिर्फ इंडिया वाले ही नहीं, …