रविवार , जनवरी 29 2023 | 01:31:31 AM
Breaking News
Home / राज्य / उत्तरप्रदेश / “अटल काव्यांजलि” में जुटेंगे देश के दिग्गज कवि

“अटल काव्यांजलि” में जुटेंगे देश के दिग्गज कवि

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). पिछले कई वर्षों की भांति भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की जयंती की पूर्व संध्या पर दिनांक 24 दिसंबर 2022 को सायंकाल काल 5:00 बजे से 8.00 बजे तक दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित एनडीएमसी कन्वेंशन हॉल में एक भव्य “अटल काव्यांजलि” का आयोजन नीरज स्मृति न्यास द्वारा किया जा रहा है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि हरियाणा के राज्यपाल महामहिम बंडारू दत्तात्रेय होंगे। उनका निजी लगाव श्रधेय अटल जी से पचास वर्षों से रहा है और दक्षिण भारतीय होते हुए भी उन्होंने हिन्दी काव्यांजलि में शामिल होने की सहर्ष सहमती दी है।

नीरज स्मृति न्यास के अध्यक्ष एवं पूर्व राज्य सभा सांसद आर. के. सिन्हा ने बताया कि  हिंदी के प्रसिद्ध कवि गोपालदास नीरज जी का जन्म 4 जनवरी को हुआ था और स्वर्गीय अटल जी का जन्म 25 दिसंबर को हुआ था। दोनों घनिष्ठ मित्र भी थे। नीरज जी की मृत्यु अटल जी के स्वर्गवास के कुछ सप्ताह पूर्व ही हुआ था जिसके पश्चात “नीरज स्मृति न्यास” का गठन किया गया और विगत वर्षों में अटल जी की याद में न्यास ने “अटल काव्यांजलि” पूरे देश भर में करवाई थी। उसी श्रृंखला में अब मैं पुनः अटल जी के जयंती की पूर्व संध्या पर दिल्ली में दिनांक 24 दिसंबर और पटना में 26 दिसंबर को में “अटल काव्यांजलि” नीरज स्मृति न्यास द्वारा किया जा रहा है।

इस बार के अटल काव्यांजलि में देश भर के जानेमाने अनेक कवि आ रहे हैं, जिसमें पदमश्री सुरेन्द्र शर्मा, डॉo बुद्धिनाथ मिश्र, डॉo विष्णु सक्सेना, सर्वेश अस्थाना, डॉo रूचि चतुर्वेदी, मनवीर मधुर, शुभी सक्सेना, आराधना सिन्हा प्रमुख हैं। कार्यक्रम के संचालन की ज़िम्मेदारी कविवर गजेन्द्र सोलंकी निभाएंगे।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

सीएक्यूएम ने एनसीआर में कोयले के उपयोग पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली (मा.स.स.). कोयला, फर्नेस ऑयल इत्यादि जैसे अत्यधिक प्रदूषणकारीवाश्म ईंधन के उत्सर्जन से उत्पन्न …