रविवार , फ़रवरी 05 2023 | 11:37:06 PM
Breaking News
Home / राज्य / मध्यप्रदेश / विदिशा, स्टार्टअप्स द्वारा प्रस्तावित नवाचारी 5जी उपयोग मामले में भारत का पहला जिला बना

विदिशा, स्टार्टअप्स द्वारा प्रस्तावित नवाचारी 5जी उपयोग मामले में भारत का पहला जिला बना

Follow us on:

भोपाल (मा.स.स.). विदिशा, मध्य प्रदेश का एक आकांक्षी जिला है जो स्टार्टअप्स द्वारा प्रस्तावित नवाचारी 5जी उपयोग मामलों की जमीनी स्तर पर तैनाती करने वाला भारत का पहला जिला बन गया है। अपर सचिव (दूरसंचार) एवं प्रशासक यूएसओएफ के मार्गदर्शन में विदिशा जिला प्रशासन और सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलामैटिक्स (सी-डॉट), दूरसंचार विभाग की यह एक संयुक्त पहल है।

सामाजिक-आर्थिक वर्टिकल्स में डिजिटल परिवर्तन की गति बढ़ाने के लिए दूरसंचार विभाग ने दूरसंचार स्टार्टअप्स और एमएसएमई मिशन (टीएसयूएम) तथा 5जी वर्टिकल एंगेजमेंट पार्टनरशिप प्रोग्राम (वीईपीपी) के तहत डिजिटल संचार तकनीक- स्टार्टअप और एसएमई को संभावित उपयोगकर्ता समुदायों यानी राज्य सरकारें, स्मार्ट शहर, आकांक्षी जिले, वर्टिकल उद्योगों को सहयोग की सुविधा प्रदान कर रहा है। सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (सी-डॉट-), दूरंसचार विभाग उभरती हुई डिजिटल संचार तकनीकों में अग्रणी है, जो ‘’5जी उपयोग मामला प्रोत्साहक पायलट” का अग्रगामी है और स्वास्थ्य, कृषि, डेयरी, शिक्षा तथा कौशल विकास पर ध्यान केंद्रित करते हुए विदिशा समुदाय को बड़े पैमाने पर लाभान्वित करने के लिए विदिशा (आकांक्षी जिला), मध्य प्रदेश में स्टार्टअप्स और एसएमई के लिए 5जी/4जी आईओटी नवाचारी समाधान तैनात कर रहा है।

5जी उपयोग मामला प्रोत्साहक पायलटः 12 जनवरी 2023 को अपर सचिव दूरसंचार की विदिशा जिले की यात्रा के दौरान सी-डॉट के सहयोग से स्टार्टअप्स द्वारा निम्नलिखित 5जी/आईओटी उपयोग मामलों का प्रदर्शन किया गया:

  • सुपरस्यूटिकल्स- 5जी/4जी सक्षम स्मार्ट हेल्थ कियोस्क के साथ महत्व्पूर्ण परीक्षणों का तुरंत मापन है।
  • एंबुपोड: दूरस्थ डॉक्टर सहायता के साथ मूल जीवन सुरक्षा समर्थन की सहायता से 5जी/4जी सक्षम ऑटो एम्बुलेंस।
  • लोजीएआई: मोतियाबिंद रोग की त्वरित और प्रभावी जांच के लिए स्मार्ट फोन का उपयोग कर कैटेरेक्ट (मोतियाबिंद) आई स्क्रीनिंग एप्लिकेशन
  • ऐसियोफाई: प्रभावी निदान के लिए फेफड़े और मस्तिष्क स्कैन (सीटी/एक्सरे आदि) के लिए एआर/वीआर-3डी विज़ुअलाइज़ेशन एप्लिकेशन।
  • टैकएक्सआर: नवाचारी शिक्षक विधियों के लिए शिक्षण और पाठन उपकरण हेतु छात्रों के लिए एआर/वीआर-3डी इमर्सिव एक्सपीरियंस किट।
  • बीकेसी एग्रीगेटर्स: फसल सलाह ऐप- किसानों मंडियों/व्यापारियों, राज्य सब्सिडी/फसलों के लिए बीमा के साथ जुड़ने और सूचित निर्णय लेने के व्यक्तिगत फसल परामर्श।
  • द्वारा-सुरभि: राज्य विभाग और बीमा कंपनियों द्वारा उपयोग की जाने वाली मवेशियों की अद्वितीय बायोमेट्रिक थूथन पहचान, और डेयरी किसानों द्वारा उपयोग की जाने वाली मवेशियों की स्वास्थ्य स्थिति की भविष्यवाणी
  • सी-डॉट (दूरसंचार विभाग की अनुसंधान एवं विकास शाखा): टेली परामर्श और ई-लर्निंग समाधान सूट को सक्षम करने वाले सभी स्वास्थ्य सूटों को एकीकृत करने वाला वन स्टॉप प्लेटफॉर्म।

5G उपयोग मामला प्रोत्साहक पायलट के तहत, उपरोक्त उपयोग के मामलों को सामुदायिक और जिला स्वास्थ्य केंद्रों, मॉडल स्कूलों, कृषि और डेयरी किसानों, कौशल विकास केंद्रों में 1 वर्ष की अवधि के लिए तैनात किया जाएगा। बाद में इस अवधि को जरूरत के अनुसार बढ़ाया भी जा सकता है। ये डिजिटल समाधान विदिशा के उपयोगकर्ता समुदायों को निर्बाध सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए भारतनेट ब्रॉडबैंड द्वारा संचालित किए जाएंगे। 12 जनवरी 2023 को डिजिटल समाधानों के सफल प्रदर्शन के बाद, विदिशा जिला कलेक्ट्रेट में निम्नलिखित गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में सी-डॉट और 7 स्टार्टअप के साथ खरीद सह सेवा आदेश और समझौते पर हस्ताक्षर किए गए हैं-

संचार मंत्रालय और सी-डॉट (स्टार्टअप एंगेजमेंट):

  • वी. एल. कांता राव, अपर सचिव (दूरसंचार) एवं प्रशासक यूएसओएफ
  • रविंदर अंबरदार, प्रमुख (विपणन और कॉरपोरेट मामले), सी-डॉट
  • ए एलेक्स विकास, मिशन समन्वयक (टीएसयूएम) और सहायक महानिदेशक, डीओटी मुख्यालय

विदिशा जिला प्रशासन (5G उपयोग मामलों को अपनाना):

  • उमाशंकर भार्गव, कलेक्टर, विदिशा, म.प्र
  • योगेश तुकाराम भरसट, सीईओ जिला पंचायत, विदिशा, म.प्र
  • निकेत शर्मा, मुख्यमंत्री कार्यालय
  • कृषि, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता आदि विभागों के अधिकारी।

 

 बीएसएनएल और बीबीएनएल (सस्ती और निर्बाध ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी):

  • सत्यानंद राजहंस सीजीएमटी बीएसएनएल म.प्र,
  • सी एल एस यादव स्टेट हेड और सीजीएम बीबीएनएल म.प्र,
  • एन के लोढ़ा जीएम बीए भारतनेट,
  • मनोज कुमार वरिष्ठ महाप्रबंधक संचार,
  • पंकज गुप्ता बीए हेड सागर,
  • अनिल अहिरवार जीएम भारतनेट इंदौर,
  • मयंक त्रिपाठी जीएम भारतनेट भोपाल

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

राज्यमंत्रियों के पहले अखिल भारतीय वार्षिक सम्मेलन में वॉटर विजन@2047 पर चर्चा

भोपाल (मा.स.स.). भारत को 2047 तक विकसित राष्ट्र बनाने के सम्बंध में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र …