रविवार , जनवरी 29 2023 | 01:13:11 AM
Breaking News
Home / व्यापार / पेशेवर शुल्कों के उन्नयन के लिए बौद्धिक संपदा संरक्षण योजना को संशोधित किया गया

पेशेवर शुल्कों के उन्नयन के लिए बौद्धिक संपदा संरक्षण योजना को संशोधित किया गया

Follow us on:

नई दिल्ली (मा.स.स.). स्टार्टअप्स के बौद्धिक संपदा अधिकारों (आईपीआर) की सुरक्षा, संवर्धन और उनके बीच नवाचार और रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने के लिए, भारत सरकार ने 2016 में स्टार्ट-अप्स बौद्धिक संपदा संरक्षण (एसआईपीपी) की सुविधा प्रदान करने की एक योजना शुरू की थी। इस योजना ने स्टार्टअप्स को आईपी ​​सुविधादाताओं की सहायता से अपने पेटेंट की फाइलिंग और प्रोसेसिंग, डिजाइन या ट्रेडमार्क आवेदन करने की सुविधा प्रदान की। जिसका शुल्क कार्यालय महानियंत्रक पेटेंट डिजाइन और ट्रेडमार्क, उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग, भारत सरकार द्वारा वहन किया गया था। +

इस योजना के सफल कार्यान्वयन के परिणामस्वरूप स्टार्टअप्स द्वारा आईपी फाइलिंग में उल्लेखनीय वृद्धि हुई, इस योजना को 31 मार्च, 2023 तक तीन वर्षों की अवधि के लिए बढ़ा दिया गया था। स्टार्टअप्स द्वारा फाइल किए गए आईपी आवेदनों की संख्या को बढ़ाने के लिए, स्टार्टअप्स को गुणवत्ता युक्त सेवाएं प्रदान करने के उद्देश्य और आईपी सुविधादाताओं को प्रोत्साहित करने के लिए अब इस योजना को संशोधित किया गया है और सुविधा शुल्क में उल्लेखनीय रूप से कम से कम 100% की वृद्धि की गई है। यह संशोधित योजना 02 नवंबर, 2022 से लागू हुई है और पुरानी योजना की तुलना में इसकी संशोधित शुल्क संरचना निम्नानुसार है:

भुगतान का चरण पेटेंट ट्रेडमार्क डिजाइन
शुल्क (भारतीय रुपये में) 2016 2022 2016 2022 2016 2022
आवेदन दाखिल करते समय 10,000 15,000 2,000 3,000 2,000 3,000
आवेदनों के अंतिम निपटान के समय बिना विरोध के 10,000 25,000 2,000 5000 2,000 5,000
विरोध के साथ 15,000 35,000 4,000 10000 4,000 10,000

उपरोक्त योजना के अलावा, संबंधित आईपी विधानों के तहत शुल्क में छूट प्रदान करके स्टार्टअप्स द्वारा आईपी भरने को भी प्रोत्साहित किया जाता है। स्टार्टअप्स को पेटेंट आवेदन दाखिल करने में 80% शुल्क छूट और ट्रेडमार्क आवेदन भरने में 50% शुल्क छूट दी जाती है। इसके अलावा, पेटेंट आवेदनों की फास्ट-ट्रैक जांच करने के भी प्रावधान हैं। परिणामस्वरूप, पिछले 6 वर्षों में स्टार्टअप्स द्वारा आईपी गतिविधियों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है:

  • स्टार्टअप्स द्वारा दाखिल पेटेंट आवेदन जो 2016-17 में 179 थे 2021-22 में बढ़कर 1500 हो गए हैं;
  • स्टार्टअप्स द्वारा दाखिल किए गए ट्रेड मार्क आवेदनों की संख्या 2016-17 में 4 थी 2021-22 में बढ़कर 8649 हो गए हैं;
  • स्टार्टअप्स द्वारा 2016-17 से अक्टूबर 2022 तक 7430 पेटेंट आवेदन और 28,749 ट्रेड मार्क आवेदन दाखिल किए गए हैं।

30 सितंबर, 2022 तक, आईपी भरने में स्टार्टअप्स की सहायता करने वाले सुविधादाताओं को शुल्क के रूप में 380.81 लाख रुपये वितरित किए गए हैं। संशोधित शुल्क संरचना प्रभावी और गुणवत्ता सेवा प्रदान करने वाले आईपी सुविधाकर्ताओं की सहायता के माध्यम से स्टार्टअप्स द्वारा आईपी आवेदन दाखिल करने में और वृद्धि होगी।

मित्रों,
मातृभूमि समाचार का उद्देश्य मीडिया जगत का ऐसा उपकरण बनाना है, जिसके माध्यम से हम व्यवसायिक मीडिया जगत और पत्रकारिता के सिद्धांतों में समन्वय स्थापित कर सकें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए हमें आपका सहयोग चाहिए है। कृपया इस हेतु हमें दान देकर सहयोग प्रदान करने की कृपा करें। हमें दान करने के लिए निम्न लिंक पर क्लिक करें -- Click Here


* 1 माह के लिए Rs 1000.00 / 1 वर्ष के लिए Rs 10,000.00

Contact us

Check Also

कोयला मंत्रालय ने निष्‍पादन बैंक गारंटी के संशोधन में छूट की पेशकश की

नई दिल्ली (मा.स.स.). कोयला मंत्रालय ने 141 कोयला खदानों के लिए 03 नवंबर, 2022 को वाणिज्यिक कोयला खदानों की नीलामी …